“फालतू की बात करते हैं ये भगवा गमछे वाले, इश्तियाक मेरा बेस्ट फ्रेंड है” …फिर कुछ दिन बाद मिली आयुष की लाश

जब भी कोई हिन्दू मुस्लिम की बात होती थी तो वह चिढ जाता था. वह कहता था कि मुसलमान सबसे अच्छे होते हैं. वह अक्सर कहा करता था कि ये भगवा गमछे वाले लोग फालतू की बातें करते हैं, ये हिन्दू संगठन व्यर्थ मुस्लिमों के खिलाफ बातें करते हैं, वो कहता था कि मुझे तो इन भगवा गमछे वालों की बातें पसंद ही नहीं आती, मेरा तो सबसे अच्छा दोस्त इश्तियाक है. आयुष के मन मैं भगवा वालों के प्रति नफरत थी और इश्तियाक से प्यार लेकिन आयुष की ये इंसानियत इश्तियाक के चरित्र से मेल नहीं खाई और वही हुआ जिसका डर था. आयुष की ह्त्या कर डी गयी जिसका जिम्मेदार निकला इश्तियाक.

खबर के मुताबिक आयुष नॉटियाल नामक छात्र अपने परिजनों के साथ साध नगर, पालम में रहता था तथा साउथ कैंपस के राम लाल आनंद कॉलेज में पढ़ता था. कुछ महीने पहले फेसबुक के माध्यम से उसकी दोस्ती उत्तम नगर निवासी इश्तियाक से हुई थी. आयुष ने इश्तियाक से मिलना जुलना भी शुरू कर दिया. बीते 22 मार्च को उसने फोन कर उसे बुलाया बर्गर खाने के लिए बुलाया था. आयुश बर्गर खाने तो इश्तियाक के साथ चला गया. लेकिन उसके बाद वापस नहीं आया. इश्तियाक ने आयुष को बर्गर भी खिलाया तथा वहीं से आयुष को अगवा कर लिया तथा बाद में उसकी हत्या कर दी.

ज्वॉइंट कमिश्नर अजय चौधरी के मुताबिक 22 मार्च दिन में आयुष घर से कॉलेज जाने के लिए निकला था. शाम तक नहीं लौटा. उसके ही मोबाइल नंबर से उसके पिता दिनेश नॉटियाल के नंबर पर वाट्सएप मैसेज आया. मैसेज में आयुष का फोटो था. आयुष के मुंह पर पट्टी बंधी हुई थी और उसके हाथ पैर बंधे थे. सिर पर चोट थी. मैसेज के साथ 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी गई थी. मैसेज देखते ही दिनेश ने तुरंत इसकी जानकारी पुलिस को दी. पालम गांव के एसएचओ जोगिंद्र जून से मिले. देर रात मामला दर्ज कराया गया. जांच आरंभ हुई तो पुलिस ने पिता से उससे संपर्क करने को कहा. लेकिन आरोपी जब भी बात करता या फिर मैसज करता तो वह व्हाट्सऐप का ही इस्तेमाल करता था.

ज्वॉइंट कमिश्नर अजय चौधरी के मुताबिक उसने अगवा करने के बाद ही छात्र के सिर पर हथौड़े से वार कर मार डाला था. इसके बाद परिजनों से 50 लाख रुपये की फिरौती मांग रहा था. घटना के बाद से ही पुलिस ने छात्र के पिता को अपने पास ही बुला लिया था और अपरहणकर्ताओं से होने वाली बात के आधार पर उसे दबोचने की रणनीति में जुटी हुई थी. इस बीच अचानक बुधवार रात छात्र का शव द्वारका सेक्टर 13 में एक नाले के पास पड़ा मिला, जिसकी शिनाख्त होने के बाद पुलिस ने आरोपी हमलावर को आख्रिरकार गिरफ्तार कर लिया. ज्वाइंट कमिश्नर के मुताबिक अपहरण के बाद ही आरोपी ने छात्र की हत्या कर दी थी. शव अपने एक जानकार के कमरे में रखा था. उसने शव को प्लास्टिक में पैक कर बोरे में रखा था. बोरे में शव रखने के बाद उसकी सिलाई भी कर दी थी. बाद में शव को ठिकाने लगाने की नीयत से उसने नाले में बोरे में रखा शव फेंक दिया था.

Share This Post

Leave a Reply