Breaking News:

कट्टरपंथियों को उन्हीं की भाषा में जवाब दिया मुस्लिम महिला ने.. मौलवी के खिलाफ जारी किया दाढ़ी काटने का फतवा

2014 में देश की सत्ता बदली सो बदली, हमेशा से अंतहीन प्रताड़ना झेलती आ रही मुस्लिम महिलाओं ने भी आपने साथ होते आ रहे अन्याय के खिलाफ आवाज उठाना शुरू कर दी. अकसर सुनने में आता है कि इस्लामिक मौलाना या मौलवी ने किसी के खिलाफ फतवा जारी कर दिया लेकिन आप ऐसा कभी नहीं सुने होंगे कि मौलवी के खिलाफ फतवा जारी किया गया हो और वो भी किसी मुस्लिम महिला के द्वारा.

लेकिन लंबे समय से कभी तीन तलाक, कभी हलाला तो कभी बहुविवाह की आड़ में प्रताड़ित की जाती  रही मुस्लिम महिलाओं को देश के प्रधानमन्त्री ने संबल दिया, उनके दुखों को दूर करने का एलान किया तो ऐसी मुस्लिम महिलाओं के चेहरे पर मुस्कान लौट आयी. मुस्लिम महिलाओं को लगा कि देश का प्रधानसेवक जब उनके साथ है तो खुद उन्होंने मजहबी कट्टरपंथियों के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद कर दी. ऐसी ही एक तीन तलाक पीड़िता मुस्लिम महिला समीना इस समय काफी चर्चा में है क्योंकि उसने कट्टरपंथियों को उन्ही की आवाज में जवाब दिया है तथा मौलिम मौलवी के खिलाफ उसकी दाढ़ी काटने का फतवा जारी कर दिया है. मौलवी के खिलाफ फतवा जारी करने वाली समीना की हर कोई तारीफ़ कर रहा है तथा उनके सहस तथा जज्बे को सैल्यूट कर रहा है.

समीना ने ऐलान किया कि जिन मौलवियों ने सामाजिक कार्यकर्ता निदा खान के खिलाफ फतवा जारी किया है, ऐसे मौलवियों के खिलाफ वे भी फतवा जारी कर रही हैं और उनकी दाढ़ी काट कर लाने वाले को 21,786 रुपए का इनाम देंगी. बता दें कि तीन तलाक, हलाल और बहुविवाह से पीड़ित महिलाओं की आवाज उठाने वाली बरेली की निदा खान के खिलाफ एक मौलवी ने फतवा जारी करके भारत छोड़ने और उनकी चोटी काट कर लाने वाले को 11,786 रुपए का इनाम देने का ऐलान किया है. इस पर समीना ने कहा कि निदा खान अकेली नहीं है जो उसकी चोटी काट ली जायेगी लेकिन वह इस्लाम का इतिहास बदल रही हैं तथा मौलाना की दाढ़ी काटने का फतवा जारी कर रही है. बता दें कि निदा खान बरेली के आला हजरत खानदान की बहू हैं जो तीन तलाक पीडिता हैं तथा समीना भी तीन तलाक पीडिता है व् दोनों ही तीन तलाक व हलाला पीड़ितों को न्याय दिलाने की लड़ाई लड़ रही हैं.

Share This Post