फ़ौजी बेटे की चिता पर पिता ने जो कहा वो गूँज गया हर कानों में.. राष्ट्रभक्ति क्या होती है यहां देखिये

राष्ट्रभक्ति क्या होती है ये जानना है तो उत्तर प्रदेश के मथुरा के कोसीकलां के गाँव हुलवाना जाकर भारतमाता की सेवा करते हुए अपने प्राणों का बलिदान देने वाले अमर हुतात्मा रामवीर सिंह के पिता से जाकर मिलिए, इससे अच्छी राष्ट्रभक्ति तथा देश के प्रति समर्पण की मिसाल आज के समय शायद आपको कहीं और देखने को नहीं मिलेगी. बता दें कि रामवीर सिंह दो अगस्त को कश्मीर में इस्लामिक आतंकियों का मुकाबला करते हुए बलिदान हो गये थे.

5 अगस्त को कश्मीर से 370 हटाए जाने की खबर जैसे ही बलिदानी रामवीर सिंह के पिता को हुई वो खुशी से उछल पड़े. जब उन्हें बताया गया कि कश्मीर से 370 हटा दी गई है, उस समय वह अपने बेटे के अंत्येष्टि स्थल पर बैठे थे. 370 हटाए जाने के की खबर मिलते ही वह अपने बलिदानी बेटे रामवीर की तस्वीर लेकर खुशी से उछल पड़े. आँखों में आंसू भरकर बोले, मेरे बहादुर बेटे का बलिदान भारत माता के काम आ गया. अब कश्मीर पूरी तरह से हमारा हो गया है.

गांव हुलवाना में बलिदानी रामवीर सिंह के अंत्येष्टि स्थल पर अचानक हलचल बढ़ गई जब लोगों को टीवी के जरिए जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने की सूचना मिली. बेटे के गम में बैठे बलिदानी के पिता किशन सिंह सरकार के इस फैसले को लेकर खुश नजर आए. वह बलिदानी ताम्वीर सिंह की तस्वीर को लेकर उछल पड़े. कहने लगे, बेटे का बलिदान भारत माता के काम आ गया. भाई सुंदर सिंह ने कहा कि अब उन्हें संतोष है कि सरकार ने शहीद रामवीर और फौजियों की दिली इच्छा को पूरा किया है.

Share This Post