शौर्य दिवस मना रहे बजरंग दल पर कश्मीरी अंदाज़ में पत्थरबाज़ी.. उबल पड़ा मध्यप्रदेश

रामलल्ला की जगह रामलल्ला की है और इस बात में कोई दो राय नहीं है कि ये जगह किसकी होगी । ये जगह रामलल्ला की है और रामलल्ला की ही होगी। 6 दिसम्बर को शौर्य दिवस मनता है और इसी को लेकर जुलुस निकला पर इंतेजार कर रहे थे मजहबी उन्मादी और फिर पत्थरों की बरसात हुई उनपर .

आपको बता दे कि अयोध्या की विवादित बाबरी मस्जिद विध्वंस की घटना की 25वीं बरसी के मौके पर मध्य प्रदेश के उज्जैन में जुलूस निकाला गया।

राइट विंग के कार्यकर्ताओं द्वारा उज्जैन में निकाले जा रहे जुलूस में कुछ लोगों ने पथराव कर दिया, जिसके बाद इलाके में हिंसा भड़क गई। गुस्साए लोगों को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा और लोगों पर आंसू गैस भी छोड़नी पड़ गई। यह हिंसा उज्जैन के तोपखाना इलाके में हुई। दरअसल विहिप और बजरंग दल के कार्यकर्ता बुधवार को उज्जैन में बाबरी विध्वंस की बरसी पर जुलूस निकाल रहे थे।

जब उनका जुलूस शहर के तोपखाना इलाके में पहुंचा उस वक्त कार्यकर्ताओं के ऊपर कुछ लोगों द्वारा पथराव किया गया, जिसके बाद गुस्साए कार्यकर्ताओं ने भी जवाब देते हुए पत्थरबाजी करनी शुरू कर दी।
कुछ ही समय में दोनों गुट आमने-सामने हो गए और हिंसा भड़क गई। भड़के लोगों ने इलाके में खड़े वाहनों को भी नुकसान पहुंचाया। हिंसा इतनी भड़क गई कि उसे कंट्रोल करने के लिए पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ गया। उज्जैन जिला कलेक्टर संकेत भोंदवे ने बताया, ‘पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए दंगा भड़कने से रोक दिया। फिलहाल स्थिति इस वक्त कंट्रोल में है।’ इसके अलावा पथराव की एक अन्य घटना महाकाल स्क्वायर में भी हुई, लेकिन यहां भी पुलिस ने समय पर एक्शन लेते हुए दंगा भड़कने से रोक दिया।

Share This Post