मदरसे का मौलवी गुड ही रह गया, नौ साल का चेला शोएब चीनी हो गया, मदरसे में पिटाई का बदला कुछ यूं लिया गया….

मदरसों में पढ़ाने वाले टीचर की पोल खुल गई है। मदरसों में बच्चों को क्या पढ़ाया जाता है ये अब सबके सामने आ गया है। मेरठ के मदरसे में एक नौ साल के छात्र ने अपने टीचर से कुछ इस तरह बदला लिया जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। दरअसल, मेरठ में एक मदरसे में नौ साल के एक छात्र की मदरसे के एक टीचर ने पिटाई कर दी तो छात्र ने उससे बदला लेने के लिए खुद ही के अपहरण की कहानी रच दी। 
मामला मेरठ के गढ़ रोड स्थित कमालपुर गांव के इस्लामाबाद मौहल्ला का है। जहां एक सात वर्षीय शोएब गांव के मदरसे में पढ़ता था। सुबह गांव के ही एक बच्चे राशिद ने शोएब को मदरसे के पास झाड़ियों में पड़ा देखा, उसके हाथ-पैर बंधे हुए थे। जिसके बाद उसने हाथ-पैर खोले और शोर मचाया तभी मौके पर सैकड़ों लोग जमा हो गए। होश संभालते हुए शोएब ने बताया कि वह अपने साथी अयान के साथ मदरसे जा रहा था, तभी दो बाइक सावर चार युवकों ने उन्हें पकड़ लिया। 
उन चारों ने उन्हें जबरन बाइक पर बिठाने की कोशिश की, लेकिन बाद उसे हाथ-पैर बांध कर छोड़ दिया और आयान को उठाकर ले गए। जिसके बाद इसकी जानकारी मिलते ही गांव में हड़कंप मच गया और इस घटना की पूरी जानकारी पुलिस को दी। इसके बाद जब पुलिस ने शोएब से पूछताछ करते हुए उस मदरसे और गांव में तलाशी शुरू की तो सभी अयान नाम के बच्चे वहां मौजूद थे। वहीं, शोएब ने सभी बच्चों में उस अयान के शामिल होने से इंकार कर दिया, जिसका अपहरण होने की बात कही जा रही है, जिसके बाद पुलिस उलझन में पड़ गई। 
इसके बाद पुलिस मदरसे के बाहर मुस्तैद रही, लेकिन उस दौरान तक किसी के भी माता-पिता ने अयान के नाम की पुलिस में कोई गुमशदगी की रिपोर्ट नहीं कराई। जिसके बाद पुलिस शोएब पर शक हुआ। इसके बाद पुलिस ने शोएब से दोबारा पुछताछ की तो बताया कि उसने अपहरण की फर्जी कहानी सुनाई थी। उसने बताया कि मदरसे का टीचर अक्सर पढ़ाई न करने पर उसे पिटता था और शोएब चाहता था कि वह अपने भाई के साथ दूसरे स्कूल में पढ़े। मदरसे जाने से बचने के लिए उसने खुद के ही हाथ-पैर बांधे और ये सारी कहानी गढ़ी।  
सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW