स्कूलों में बंद होगा “यस सर” और शुरू होगा “जय हिन्द”.. एक ऐसा प्रदेश जिसने दिखाया बाकी को सही मार्ग

गुजरात के स्कूलों में बच्चे अब यस सर या यस मैडम नहीं बल्कि जय हिन्द या जय भारत बोलेंगे. गुजरात सरकार ने बच्चों में देशभक्ति की भावना का संचार करने के लिए ये निर्णय लिया है. गुजरात सरकार के शिक्षा विभाग ने आज सोमवार को इसे लेकर अधिसूचना जारी कर दी है. प्राथमिक शिक्षा निदेशालय और गुजरात माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (GSHSEB)की ओर से जारी की गई अधिसूचना में कहा गया है कि कक्षा 1 से 12 तक के छात्रों हाजिरी लगाने के लिए ‘यह हिंद’ या ‘यह भारत’ बोलना होगा.

गुजरात सरकार के शिक्षा विभाग की ओर से जारी इस अधिसूचना में कहा गया है कि बच्चों में बचपन से ही देशभक्ति बढ़ाने के मकसद से यह फैसला लिया गया है. इसके मुताबिक सोमवार को हुई समीक्षा बैठक में राज्य के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडासमा ने यह फैसला लिया. अधिसूचना की कॉपी जिला शिक्षा अधिकारियों को भेज दी गई है. इस अधिसूचना का सरकारी, सहायता अनुदान और स्व-वित्तपोषित स्कूलों को पालना करना होगा. इसका एक जनवरी 2019 से पालन करने के लिए कहा गया है.

बता दें कि गुजरात सरकार ने राजस्थान के जालोर के रालोद गांव निवासी शिक्षक संदीप जोशी के सुझाव पर नियम लागू किया है. शनिवार को अहमदाबाद के साबरमती रिवर फ्रंट के किनारे पर यशवंत राव केलकर राष्ट्रीय युवा पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन हुआ था. सम्मान के लिए रेवत गांव में इतिहास के व्याख्याता संदीप जोशी को भी बुलाया गया था. जोशी ने अपने नवाचारों की जानकारी दी. मंच पर मौजूद गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन भाई पटेल तथा शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चुडासमा ने इसकी सराहना की और सोमवार को सरकार ने इसे लागू करने के आदेश जारी कर दिए.

Share This Post