देश की राजधानी दिल्ली बन रही कैराना.. मजहबी उन्मादियों के कहर से हिन्दुओं का पलायन

कैराना का नाम तो आप सभी ने सुना ही होगा. वही कैराना जो पश्चिमी उत्तर प्रदेश का में स्थित है तथा जहाँ से मजहबी उन्मादियों के कहर से भयभीत होकर हिन्दुओं के पलायन का मामला सामने आया था. जिस तरह से मजहबी   उन्मादियों ने कैराना से हिन्दुओं को पलायन के लिए मजबूर किया था, ठीक वैसी ही स्थिति  की राजधानी दिल्ली में बन रही है.

जी हाँ, आपको बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली में मजहबी उन्मादियों के कहर से हिन्दुओं का पलायन शुरू हो गया है. खबर के मुताबिक़, दिल्ली के सराय रोहिल्ला और तुलसी नगर में कई मकानों के बाहर ‘बिकाऊ’ लिखे हुए पोस्टर लगे हैं. घरों के बाहर दीवारों पर चस्पा सूचनाओं में लिखा है, “ये मकान बिकाऊ है. दिल्ली पुलिस हमें सुरक्षा देने में असमर्थ है. हम पर मकान बेचने का दबाव बनाया जा रहा है.”  जिन मकानों के बाहर ऐसी सूचनाएं लिखी गयी हैं, वे सभी हिंदूओं के हैं. हिन्दू समाज के लोगों का आरोप है कि आए दिन मुस्लिम समुदाय के लोग उन्हें धमकाते रहते हैं तथा बार बार पुलिस में शिकायत करने के बाद भी दिल्ली पुलिस उन्हें सुरक्षा प्रदान नहीं कर रही है.

तुलसी नगर की गली नंबर एक में सतीश कुमार परिवार के साथ रहते हैं. उनका जूतों का कारोबार है. घर के सामने इदरीश का घर है. सतीश का आरोप है कि उनके घर के आगे मांस, मछली और हड्डियों के पैकेट आए दिन फेंक दिए जाते हैं. सतीश का दावा है कि विरोध करने पर झगड़ा करते हैं. वे धमकी देते हैं कि तुम्हें भी मकान बेचना पड़ेगा वरना तुम्हारा रहना यहां हराम कर देंगे. आरोप है कि शनिवार को भी उन्होंने घर के आगे मांस फेंका. विरोध करने पर सरिया लेकर मारने आ गए. आरोप है कि इदरीश और उसके बेटे फवाद ने हमला किया और गालियां देते हुए धमकी दी कि या तो मकान बेच दो या फिर ये सब झेलने को तैयार रहो. सुदर्शन द्वारा इस मामले को उठाने के बाद क्षेत्र में हिन्दू संगठन भी जुटने लगे है, जिसके कारण स्थिति तनावपूर्ण हो गई है.

Share This Post