बेटे की मौत का आखिरी गवाह था पिता, पुलिस चाहती तो बच सकती थी जान….

नई दिल्ली:
 दिल्ली के ही रोहिणी इलाके में एक बार फिर से जुर्म ने दस्तक
दी है। जहां पर एक बुजुर्ग की गोलियो से भूनकर हत्या कर दी गई। और सभी बदमाश मौके
से ही फरार हो गए। इस घटना को रात में 
अंजाम दिया गया। आपको बता दें कि, वह बुजुर्ग अपने बेटे की हत्या का इकलौता
गवाह है। जिसके चलते ही उसे लगातार धमकियां मिल रही थी । और इसी रंजिश के चलते ही
हमलावरो ने हमला करके बुजुर्ग की हत्या कर दी। हमलावरों की संख्या दो बताई जा रही
है।

बता दें कि, हत्या की यह सनसनीखेज
वारदात रोहिणी के ही सेक्टर 24 की है। जहां पर 65 वर्षीय रतन लाल की अपनी दुकान थी और शाम के लगभग 6 बजे के आस पास रतन लाल अपनी दुकान पर ही बैठे थे। और तभी उसी वक्त
वहां  पर कुछ कार सवार बदमाश आये और रतनलाल
पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरु कर दी और इसी फायरिंग के दौरान रतनलाल को 6 गोलियां लगी। इसके बाद बदमाश 
मौके पर ही फरार हो गए। 

घायल हालत में रतन लाल को पास के
भीमराव अम्बेडकर अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
इस घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। लोग दहशत में आ गए। पुलिस भी मौके पर जा
पहुंची।

रतनलाल की हत्या का आरोपी एक
फाइनेंसर मंजीत पर लगा है

 मंजीत के खिलाफ रतनलाल के बेटे की
हत्या करने को लेकर भी मामला चल रहा था।  बता दें, कि फाइनेंसर मंजीत और उसके साथियों को रतन लाल की शिकायत के बाद कोर्ट ने जमानत
भी नहीं दी थी। मंजीत जेल में बंद है। रतनलाल के बेटे की मौत को एक साल गुजर चुका
है। और रतनलाल खुद अपने बेटे की हत्या का इकलौता गवाह भी था।

 हत्या से पूर्व रतनलाल ने बेगमपुर पुलिस को
शिकायत भी दर्ज की थी कि, उसे लगातार धमकियां मिल रही है ।

आरोप है कि, पुलिस ने
रतनलाल की एक ना सुनी और पुलिस के इसी लापरवाह रवैया के चलते ही रतनलाल को अपनी
जान गवानी पड़ी।

हालांकि बेगमुपर थाना पुलिस ने
हत्या का मुकदमा दर्ज करके छानबीन शुरु कर दी है और पुलिस आस-पास लगे सीसीटीवी
कैमरों की मदद से हमलावरों को खोजने में लगी हुई है।

 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW