मुज़फ्फरनगर में शिवभक्तों की अभूतपूर्व सुरक्षा, जल,थल,नभ में हर कही पहरा

 मुज़फ्फरनगर/उत्तरप्रदेश
श्रावण मास लगते ही कांवड़ यात्रा शुरू हो जाती है करोड़ो शिव भक्त हरिद्वार से पवित्र गंगाजल लेकर मुज़फ्फरनगर से गुजरते हुए अपने गंतव्य की और बढ़ जाते है ।इस वर्ष गुजरने वाले लगभग दो करोड़ शिव भक्त कावड़ियों की सुरक्षा के लिए जिला प्रसाशन ने पूर्ण तैयारी कर ली है।
जिला प्रसाशन इस बार जल,थल और नभ से कावड़ियों की सुरक्षा के लिए नजर रखेंगे ।जिला प्रसाशन द्वारा जंहा  कावड़ियों की सुरक्षा के लिये कावड़िया मार्ग पर भारी मात्रा में पुलिस फ़ोर्स का इंतजाम किया है। वंही गंग नहर की पटरी से गुजरने वाले कावड़ियों के लिये गंग नहर में मोटरबोट के माध्यम से कावड़ियों की सुरक्षा पुलिसकर्मी करेंगे। वंही मुज़फ्फरनगर के 90 स्थानों पर नभ में उड़ते ड्रोन कैमरों से कावड़ियों की निगरानी की जाएगी वही थल पर लगे 200 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे सुरक्षा करेंगे।
 
दरअसल मुज़फ्फरनगर जनपद उत्तराखण्ड के बाद उत्तर प्रदेश का पहला जनपद पड़ता है ।मुज़फ्फरनगर के शिव चौक पर स्थित भगवान आशुतोष की मूर्ति की परिक्रमा कर करोड़ो शिव भक्त हरियाण दिल्ली व राजस्थान अपने गतंव्य की और बढ़ते है ।इस लिये इस जनपद में शिवभक्तों की सुरक्षा के कड़े बन्दोबस्त किये जाते है ।एसएसपी अभिषेक यादव ने इस बार कांवड़ियों की 3 लेयर सुरक्षा की व्यवस्था की गई है ।नभ जल और थल इन तीनो पर कांवड़ियों की सुरक्षा की जा रही है ।(नभ)आसमान से कांवड़ियों की सुरक्षा के लिए 90 से ज्यादा ड्रोन कैमरे लगाए गए है ।वही (जल )पानी मे सुरक्षा के लिए मोटर बोट चलाकर कांवड़ियों की सुरक्षा की जा रही है वही (थल)जमीन पर जहाँ भारी मात्रा में फ़ोर्स तैनात होकर कांवड़ियों की सुरक्षा कर रहा है वही 200 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की नजर में पूरी कांवड़ यात्रा की निगरानी की जा रही है ।इस कांवड़ यात्रा को कुम्भ मेले कि तरह मनाया जा रहा है पूरा जनपद भगवामय हुआ पड़ा है और शिवभक्त कांवड़िये अपनी मस्ती में नाचते गाते अपने गंतव्य की और बढ़ रहे है ।
एसएसपी अभिषेक यादव ने जानकारी देते हुए बताया कि
यह देखिए जनपद मुजफ्फरनगर में हमने संपूर्ण तरीके से पूर्ण सुरक्षा व्यवस्था अपनी फील्ड में खड़ी कर दी है और इसमें हम तीनों लेवल की सुरक्षा से हम कवर कर रहे हैं हम जल में भी सुरक्षा दे रहे है फ़लट पीसी हमारी है जो आपका गंग नहर है जो उसमें फ़लट पीसी है वह लगातार पेट्रोलियम में रहती है बीच-बीच में लोग घाट के वहां पर भी खड़े रहते हैं ताकि कोई यात्री कोई श्रद्धालु चेक करते हैं वहां पर तैरने जाता है डुबकी लगाने जाता है या किसी भी अन्य करण से जाता है तो फलट पीसी वहां पर सुरक्षा की दृष्टि से मौजूद रहती है उसके अलावा हरिद्वार से लेकर मेरठ तक और आसपास के जनपदों में जितने भी पॉइंट्स है जहां-जहां पर भी  कावड़िया निकलते हैं सभी पर हमारा फोर्स खड़ा है सुपर जोनल जोनल्स सेक्टर सब जोनल्स मजिस्ट्रेट और पुलिस ऑफिसर लगाए गए हैं
इसके अलावा जनपद की जो जितनी भी यूपी हंड्रेड कि पीआरवी की गाड़ियां हैं उन सभी को री रूट करते हुए कावड़ रूट पर लगा दिया गया है इसके अलावा जनपद का जितना भी अपना फोर्स है वह सारा इसमें इस्तेमाल किया गया है और उस सारे फोर्स को विभिन्न प्वाइंटों पर लगाया गया है इसके अलावा ड्रोन के माध्यम से हवाई तरीके से भी सुरक्षा कर रहे है कोशिश कर रहे हैं कि जितना भी हमारा सारा कवर हो सके जो हमारे मेन कस्बे हैं मुजफ्फरनगर शहर है पुरकाजी है बुढ़ाना है सभी को ड्रोन के माध्यम से कवर किया गया है
कंट्रोल रूम से इनको कनेक्ट किया जा रहा है जो शिव चौक पर मेन कंट्रोल रूम है उसमें मॉडर्न 90 कैमरे जो आईपी कैमरे हैं उसे उनको कंट्रोल रूम से भी एक्सेस किया जा रहा है स्मार्टफोन से भी उन कैमरा को डायरेक्टली किसी भी लोकेशंस के उच्च अधिकारी स्वयं एक्सेस कर सके इसके अलावा और जो हमारे हाईवे के पॉइंट है कुल मिलाकर जनपद में 200 से ज्यादा प्वाइंट्स है जिनमें कैमरे लगाए गए हैं जो हाईवे के भी रूप को कवर कर सके क्योंकि जनपद में  मोरदैन 60 किलोमीटर का हाईवे का रूट है कावड़ का उसके अलावा 65 किलोमीटर से ज्यादा गंग नहर का रूट है और जनपद के बाकी सभी अंदर के रूट जोड़ दिया जाए तो 200 किलोमीटर से ज्यादा ऐसा रूप है जिस पर श्रद्धालु जो है हर सावन मास में यात्रा करते हैं तो हर तरीके से हर पॉइंट पर हर जगह से हमने पूरी तरीके से कवर किया है और किसी भी तरीके की सुरक्षा कोई भी कमी न आने पाए इसके लिए मुजफ्फरनगर पुलिस पूरी तरीके से प्रयास कर रही है  जल थल नाब और तीनों तरीके से हमारा पूरा प्रयास है कि कावड़ियों को श्रद्धालुओ को पूर्ण सुरक्षा हम प्रदान कर सके।
Share This Post