चुनाव चिह्न के लिए घूस देने का आरोप में शशिकला का भतीजा दिनाकरन गिरफ्तार

नई दिल्ली : चुनाव चिह्न घूस के मामले में शशिकला के भीतीजे और अन्नाद्रमुक गुट के नेता टीटीवी दिनाकरन को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है। दिनाकरन पर पार्टी का जब्त किया गया दो पत्तियों वाला चुनाव चिह्न हासिल करने के लिए चुनाव आयोग के ऑफिसर को 50 करोड़ रुपए की रिश्वत की पेशकश करने का आरोप लगा है और साथ ही दिनाकरन के करीबी दोस्त मल्लिकार्जुन को भी पुलिस ने अरेस्ट किया है। 
सूत्रों के अनुसार, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दिनाकरन से चार दिन तक लगातार पूछताछ करने के बाद उन्हें मंगलवार आधी रात में दिनाकरन को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि दिनाकरन ने बिचौलिए सुकेश चंद्रशेखर से मुलाकात की बात कबूल की है। हालांकि, दिनाकरन ने यह भी कहा है कि उन्होंने सुकेश को कोई पैसा नहीं दिया था। लेकिन सुकेश को इस मामले में पहले ही गिरफ्तार कर चुके थे। 
सूत्रों का दावा है कि सौदेबाजी में मल्लिकार्जुन भी शामिल थी। दिनाकरन के खिलाफ इस मामले में 17 अप्रैल को एफआईआर दर्ज की गई थी। हालाकिं दिनाकरन का निजी सचिव जनार्दन मामले में गवाह बनने के लिए तैयार हो गए है। दिनाकरन ने मंगलवार को कबूल किया था कि उसने चंद्रशेखर से मुलाकात की थी और वह समझता था कि चंद्रशेखर उच्च न्यायालय का न्यायाधीश है। उन्होंने पार्टी के चुनाव चिन्ह को बरकरार रखने के लिये बिचौलिये को पैसे देने की बात से इनकार किया। दिनाकरन विवादित अन्नाद्रमुक नेता चंद्रशेखर की गिरफ्तारी के बाद जांच एजेंसियों के रडार पर आये। दिनाकरन का कहना था कि उन्होंने चंद्रशेखर से कभी मुलाकात नहीं की। 
गौरतलब यह है कि शशिकला गुट ने आरके नगर असेंबली सीट पर बाईपोल के लिए दो पत्ती चुनाव चिह्न मांगा था। हालांकि चुनाव आयोग ने इसे जब्त कर लिया था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक यह पता चला था कि सुकेश ने अन्नाद्रमुक के एक गुट के लिए चुनाव चिह्न दो पत्तियां हासिल करने के मकसद से 70 करोड़ रुपए की डील की थी। सुकेश के पास से 2 करोड़ रुपए बरामद हुए थे, उसके पास से दो कारों को भी जब्त किया गया था।
राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW