चोटिल भाई से मिलने की इज़ाज़त मांगी थी सहीना ने लेकिन सैय्यद से मिला….


देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी चाहते है की देश की मुस्लिम महिलाये मुख्य धारा से जुड़े। भारत के न्यालय ने भी मुस्लिम महिलाओ की दिक्कतों को समझते हुए तीन तलाक़ पर रोक लगा दी पर कहते है न जिसे अपराध ही करना हो उसे लाख रोको पर वो अपराध करेगा जरूर। कट्टर मजहबी नहीं चाहते की उनके मजहब की महिलाये उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चले इसी लिए वो महिलाओ को सताते है ,उन्हें दबाते है और जब महिलाये इसके खिलाफ बोलती है तो उनको तीन तलाक़ कह देते है।

मामला सहारनपुर की बेहट कोतवाली के गांव रंडोल का है। बता दे की साल पहले साहिना नाम की लड्की की शादि सैय्याद नाम के लड्के से हुई थी। 8/10/2017 को साहीना को फोन पर पता लगा कि उसके ताउ के लड्के की दुर्घट्ना मे मोत हो गयी है। उसे जैसे ही ये पता लगी उसने ये बात अपने शौहर को बताई और उससे घर जाने की इजाजत मांगी। लेकिन कुछ देर बाद वह गुस्से मे आकर उसे मना करते हुये पीटने लगा। जब साहिना ने विरोध करना शुरू किया तो बात और बिगड गई और सैय्याद ने उसे तीन बार तलाक तलाक कह दिया।

सैय्याद ने घर से साहिना को निकाल कर ताला लगा दिया। साहिना के हवाले से उसके भाई ने बात की और बताया कि साहिना से सैय्याद हमेशा झगड़ता रहता था। उससे घर से पैसे लाने के लिये कहता था। साहिना का कहना है कि उसे परेशान करने मे उसके जेठ ओर जेठानी का भी हाथ है। पुलिस ने इस मामले को दर्ज कर इसकी जांच में लग गई है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...