उनके मोबाइल की रिकार्डिंग मिली तो उसमें भरे थे बम, गोली और आतंक जैसे शब्द.. जानिए वो कौन थे और क्या चाहते थे

यूपी के शामली, मेरठ और गाजियाबाद आदि जिलों में पुलिस की ऑफिशियल मेल पर वेस्ट यूपी के शामली और दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन को 72 घंटे में बम से उड़ाने की धमकी भरे ईमेल भेजने के मामले में शामली पुलिस ने दो भाइयों गुलजार तथा शहजाद को गिरफ्तार किया है. पुलिस की जांच के दौरान गुलजार के मोबाइल में जो रिकॉर्डिंग मिली है, उससे पुलिस तथा सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी हो गई हैं.

खबर के मुताबिक़, रेलवे स्टेशनों को उड़ाने की धमकी भरे मेल भेजने वाले गुलजार से बरामद मोबाइल फोन में दर्ज कॉल रिकॉर्डिंग में सुनाई दे रही आवाजों में बम और आतंकवादी जैसे शब्द भी प्रयोग हुए हैं. पुलिस के अनुसार आवाज थोड़ी अस्पष्ट हैं, लेकिन इस तरह की बातें सुरक्षा के लिहाज से बेहद गंभीर हैं.  पूछताछ में आरोपियों का बार- बार बयान बदलना भी दोनों पर संदेह की बड़ी वजह है. इन मजबूत तथ्यों के आधार पर ही पुलिस ने आरोपी गुलजार को 10 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए कोर्ट में अर्जी लगाई है.

दिल्ली के हवाई अड्डे पर रोहिंग्या गिरफ्तार.. घातक असर दिखा रही नकली धर्मनिरपेक्षता

बता दें कि शामली, मेरठ और गाजियाबाद सहित कई जिलों में रेलवे स्टेशनों को उड़ाने की धमकी देने के आरोप में गिरफ्तार मेरठ के कंकरखेड़ा के नंगलाताशी निवासी गुलजार ओर उसके भाई शहजाद से पुलिस ने तीन मोबाइल फोन बरामद किए थे. एसपी अजय कुमार के अनुसार रिकॉर्डिंग में आरोपी की फोन पर हो रही बातचीत में बम सैट करने और आतंकवादी जैसी बातें कहीं जा रही हैं. इन शब्दों का प्रयोग अपने आप में सुरक्षा के लिहाज से घातक है. जब इन दोनों से पूछताछ की गई तो इनके द्वारा बार- बार अपने बयान भी बदले गए.

इसके अलावा पुलिस द्वारा दोनों भाइयों से अलग- अलग से पूछताछ हुई तो भी इनकी बातें मेल नहीं खाई. ऐसे में इन पर संदेह और बढ़ा है. इसी कारण पुलिस गुलजार को संदिग्ध आतंकी मानकर चल रही है. फोन पर सुनी गई गंभीर बातों और इनके बार- बार बयान बदलने को ही पुलिस इस केस का मजबूत आधार बनाएगी. इस संबंध में पूरे मजबूत कागजात कोर्ट में पेश किए गए है. पुलिस ने गुलजार को 10 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेने के लिए कोर्ट में अर्जी लगाई है.

श्रीलंका के बाद अब ईसाई बाहुल्य मुल्क ब्राजील में भीषण हमला, भयंकर गोलीबारी में 11 लोगों की मौत

रेलवे स्टेशनों को उड़ाने की धमकी भरी मेल करने के आरोपी गुलजार के गुरु गाजियाबाद के मोदीनगर और मेरठ के लिसाड़ी गेट में बैठे हैं. पुलिस टीम ने आरोपियों के मोबाइल की कॉल डिटेल के आधार पर ये जानकारी जुटाई हैं. उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमें भेज दी गई हैं. पुलिस ने आरोपियों से बरामद मोबाइल में दर्ज कॉल्स को खंगाला. अधिक बातचीत वाले नंबरों को चेक किया गया. पता किया गया कि ये नंबर किसके हैं. कॉल डिटेल के आधार पर पुलिस ने दो लोगों को ट्रेस किया है.

पुलिस को पता चला है कि इनमें एक गाजियाबाद के मोदीनगर और दूसरा मेरठ के लिसाड़ी गेट क्षेत्र का है. पुलिस को पूरा यकीन है कि ये दोनों ही आरोपियों के गुरु हैं. इनसे ही आरोपी की अधिकतर बातें होती थीं. इन दोनों की तलाश में दो पुलिस टीमें मेरठ और मोदीनगर भेजी गई हैं. स्वाट टीम को भी लगाया गया है. इनकी धरपकड़ को मेरठ और गाजियाबाद जिलों की पुलिस की भी मदद ली जा रही है. पुलिस सूत्रों के अनुसार पुलिस इन दोनों की धरपकड़ के बाद ये भी स्पष्ट करेगी कि आरोपी के मोबाइल की रिकॉर्डिंग में दर्ज बातचीत इनके गुरु की है या नहीं.

20 मई- 2001 में आज से अफगानिस्तान में हिन्दुओ- सरदारों को फ़रमान जारी हुआ अलग कपड़े पहनने का. फिर हिन्दू- सिख 2 लाख 22 हजार परिवार से घट कर रह गए मात्र 200 घर

इनसे पूछताछ के बाद इनके नेटवर्क में शामिल अन्य लोगों के बारे में भी पता किया जाएगा. पुलिस को आशंका है कि इनके नेटवर्क में कई और भी शामिल हो सकते हैं. पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपी के मोबाइल की कॉल रिकॉर्डिंग में सुनी जा रही तमाम संदिग्ध बातों को पुलिस केस डायरी में दर्ज करेगी. सुनाई दे रही आवाज में जिस तरह बातचीत हो रही है उसे बोलचाल की भाषा में लिखा जाएगा  ताकि केस डायरी के आधार पर केस मजबूत बन सके.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511

Share This Post