Breaking News:

बंगाल में आपस में उलझे 2 बड़े मुस्लिम नेता .. एक ने इमाम बरकाती को बताया RSS का एजेंट

ये बेहद विकट हालत हैं ममता बनर्जी के लिए . इतने सारे विभिन्न विचारधारा वालों का समावेश अपनी पार्टी में कर के चलने के लिए उनकी तारीफ बनती है पर अब उनके लिए वही विभिन्न विचारधारा समस्या खड़ी करती जा रही है . इस बार बंगाल में दो कट्टर मुस्लिम नेता आमने सामने आ चुके हैं और विडंबना इस बात की है की दोनों की ममता के अपने बेहद ख़ास में आते हैं जिन्हे ममता ने लाल बत्ती से नवाज रखा है ..

ताजा मामले में पश्चिम ममता सरकार में बड़ा रुतबा रखने वाले मंत्री और  तृणमूल कांग्रेस के अल्पसंख्यक समुदाय के रसूखदार प्रतिनिधि सिद्दिकुल्ला चौधरी से जुड़ा है जो इमाम बरकाती के सामने खुल कर आ चुके हैं . सिद्दीकुल्ला चौधरी ने शनिवार को टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम मौलाना सैयद नूरूर रहमान बरकाती को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का एजेंट तक कह डाला । चौधरी ने कहा की बरकाती के बयान बंगाल में भाजपा के लिए हिन्दुओं को एक कर के वोटों का ध्रुवीकरण करवा रहे हैं .

इसी क्रम में आगे बोलते हुए चौधरी ने कहा कि इमाम बरकाती खुद जिहाद छेड़ने के बाद दूसरे समुदाय के लिए अभद्र भाषा का उपयोग कर के RSS को बंगाल में पैर जमाने के लिए जमीन दे रहे हैं . चौधरी ने खुले शब्दों में कहा कि इमाम बरकाती संघ का एजेंट हैं जो संघ के कहने और इशारे पर काम कर रहा है . बरकाती के ‘पाकिस्तान के लिए लड़ने’ वाले बयान पर चौधरी ने कहा की अगर कोई भारतीय नागरिक पाकिस्तान का पक्ष लेता है तो उसे पाकिस्तान चले जाना चाहिए।

विदित हो कि बरकाती ने एक संवाददाता सम्मेलन में धमकी भरे अंदाज में कहा था कि अगर भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया गया तो वह जिहाद छेड़ देंगे। इसके अलावा ब्रिटिश सरकार की शान में कसीदे गढ़ते हुए इमाम बरकाती ने अपनी कार से लाल बत्ती हटाने से भी इनकार कर दिया और कहा कि ब्रिटिश सरकार द्वारा शाही इमाम को यह इज्जत मिली थी . अपने ही लोग जब नहीं सम्भल रहे तो संघ को निशाने पर लेने की परम्परा पुरानी रही है . 

ज्ञात हो की इस से भी पहले जब कोई किसी भी विपक्षी पार्टी का बगावत करता है तो उसे पहले भी संघ के एजेंट की पदवी विपक्षी नेताओं द्वारा दी गयी है . मंत्री के इस बयान पर अभी बरकाती का पलटवार बाकी है . आशा है की बरकाती का बयान मंत्री जी पर भारी पड़ेगा . विदित हो की इतनी मीठी बातें करने वाले इन मंत्री सिद्दीकुल्ला  चौधरी ने अभी तक अपनी खुद की लाल बत्ती नहीं हटाई है जो की केंद्र सरकार का  आदेश है .  

Share This Post