ईद के मौके पर मजार गयीं उन दो लड़कियों के साथ जो हुआ उसे सुनकर रूह काँप जाएगी आपकी

अपने घर पर ईद मनाने के बाद वो दोनों किशोरियां मजार वाले बाबा के पास गई थी. दोनों ने सोचा था कि ईद मना ली अब मजार वाले बाबा कि दुआ भी मिल जाए लेकिन मजार पर जाना उन युवतियों के लिए भयावह साबित हुआ तथा वहां बेरहमी के साथ उनकी इज्जत को तार तार कर दिया गया. मामला उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर के सितारगंज का है. खबर के णुताबिक, घर से मजार पर गई इन दो किशोरियों के साथ सात युवकों ने गैंगरेप किया तथा विरोध करने पर युवकों ने दोनों किशोरियों की जमकर पिटाई की और कुछ भी बताने पर फोटो वायरल करने की धमकी दी.

मामले की शिकायत दर्ज कराने कोतवाली पहुंची महिला ने बताया कि शनिवार शाम करीब तीन बजे ईद पर उनकी अपनी सहेली के साथ पंडरी गांव स्थित एक मजार पर पहुंची. तभी दो युवक वहां पहुंचे और किशोरियों के साथ छेड़छाड़ करने लगे. विरोध करने पर दोनों युवक उन्हें जबरन उठाकर तटबंध किनारे बाराकोली वन रेंज के जामुन के बगीचे वाले जंगल में ले गए. यहां पांच युवक पहले से ही थे. सबने दोनों किशोरियों से साथ यहां गैंगरेप किया. आरोप है कि युवकों ने किशोरियों की लाठी-डंडों से पिटाई भी की. एक किशोरी के कपड़े तक फाड़ डाले और मोबाइल से फोटो खींचकर वायरल करने की धमकी दी. इसी बीच, वहीं मवेशी चरा रहे ग्वालों और अन्य लोगों के पहुंचने पर आरोपी फरार हो गए.

गैंगरेप पीड़ित किशोरियां शनिवार देर शाम करीब पांच बजे घायलावस्था में घर पहुंची तो उनमें से एक किशोरी की मां ने उसके फटे कपड़े और चेहरे पर चोट के निशान देखे. पूछने पर उस वक्त किशोरी ने कुछ नहीं बताया. लेकिन, रात करीब दस बजे उसने अपनी मां को पूरी घटना बताई. इसके परिजन रात में ही दूसरी पीड़ित किशोरी के घर गए. उसने भी घटना बयां की. इसके बाद रविवार सुबह करीब 11 बजे एक किशोरी के परिजन कोतवाली पहुंचे और उसकी मां ने पुलिस में तहरीर दी. पुलिस ने किशोरियों की निशानदेही पर तीन युवकों को उनके घरों और जंगल किनारे से हिरासत में ले लिया. समाचार लिखे जाने तक पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया था. सीओ शाह ने बताया कि गैंगरेप की घटना के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जाएगा.

Share This Post