पांच साल से रक्षाबंधन भैया दूज जैसे पवित्र त्यौहार को नहीं मना पाए यूपी पुलिस के जाबांज पुलिस इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह

आज जब पुरे देश में भाई दूज का त्यौहार बड़े धूमधाम से मनाया जा रहा है ऐसे में एक भाई ऐसा है जो निर्दोष होते हुए भी जेल में बंद है उसकी कलाई और माथे पर कुमकुम का टिका इस इंतजार में रह जाता है की किसी दिन मेरे साथ न्याय होगा और हम भी अपनी बहन के साथ इस भाई बहन के त्यौहार को मना पाएंगे।

हम बात कर रहे है रायबरेली की जेल में निरुद्ध इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह की जिसने अपने आपको पुलिस के प्रति निष्ठा कर्तव्यपरायणता के कारण कठोर यातना को झेल रहा है।

आज जब देश में बड़े बड़े भ्रस्टाचार के आरोपी खुले आम घूम रहे है उनके आगे ये भारतीय कानून बौना बना हुआ है और अगर कभी कोई जेल गया भी तो दो दिन में उनको बेल मिल जाती है लेकिन इस वफादार इस्पेक्टर को आज तक कोई पेरोल तक नहीं मिला है

इसका कारण भी साफ है की इसने उन माफियाओ पर हाथ डाला था जो उत्तर प्रदेश में गुंडाराज स्थापित करना चाहते थे।

आपको बताते चले कि नबी अहमद की मॉब लिंचिंग से जान बचा पाया सब इंस्पेक्टर शैलेंद्र सिंह पिछले 4 वर्षों से लगातार तारीख पर तारीख पाए जा रहा है जिसका परिवार न्याय की तलाश में भीख मांगने की कगार पर आ चुका है।

लेकिन जब देश में आतंकवादियो को भी पैलरोल मिल जाता है ऐसे में सवाल ये उठता है की क्या शैलेन्द्र सिंह का अपराध इतना बड़ा है की उनको पैरोल भी न मिले।

वेब जर्नलिस्ट 

प्रशांत सिंह 

9264915248