सिर्फ गौहत्यारे ही नहीं, गोमांस की कमाई खाने वाला परिवार भी होगा बराबर का जिम्मेदार… UP पुलिस के इस एलान से आई रामराज्य की आहट

गोकशी को लेकर हुई बुलंदशहर हिंसा के बाद सवालों के घेरे में आई उत्तर प्रदेश पुलिस ने सनसनीखेज फैसला लेते हुए कहा है कि अब सिर्फ गोहत्यारे ही नहीं  बल्कि गोहत्यारों का परिवार भी अपराध में बराबर का जिम्मेदार होगा. ये फैसला उत्तर प्रदेश की मेरठ पुलिस ने लिया है. मेरठ पुलिस के इस फैसले की गोभाक्तों ने सराहना की है तथा मेरठ पुलिस का धन्यवाद किया है.

गोकशी रोकने को लेकर पूरी तरह से एक्टिव मोड में नजर आ रहे मेरठ के एसपी देहात राजेश कुमार ने बताया कि गोकशों के साथ अब तक हुई 34 मुठभेड़ो में एक आरोपी की मौत भी हुई है. एसपी देहात राजेश कुमार ने बताया कि चूंकि गोकशी एक धर्म से जुड़ी भावनाओं को ठेस पहुंचाती है. इसलिए किसी भी सूरत में गोकशी की घटना स्वीकार्य नहीं हैं. पुलिस पिछले दस वर्षों से गोकशी की घटनाओं में लिप्त रहे आरोपियों का सत्यापन करा रही है. थाना स्तर पर की जा रही जांच में यह देखा जाएगा कि गोकशी का आरोपी सुधर गया है या नहीं. यदि कोई भी व्यक्ति गोकशी जैसी घटना में संलिप्त मिलता है तो उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाएगी.

वहीं, गोकशों को रास्ते पर लाने के लिए पुलिस ने अनूठा तरीका भी निकाला है, जिसके तहत गांवों में जाकर या थाने पर बुलाकर पूर्व में गोकशी में शामिल रहे आरोपियों के परिवारों और ग्रामीणों को क्षेत्र में गोकशी न होने देने की कसम खिलवाई जा रही है. वहीं, गोकशी के परिवार के लोगों को ताकीद की जा रही कि वह गोकशों का साथ न दें. गोकशी की कमाई खाने वाले परिवार भी गोकशी के लिए जिम्मेदार माने जाएंगे और उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाई की जाएगी. इस अभियान के तहत गोकशी के लिए कुख्यात जानी, किठौर और फलावदा थानों के कुछ गांवों में पुलिसकर्मियों ने ग्रामीणों को शपथ भी दिलाई है. जल्दी ही दूसरे थानों के पुलिसकर्मियों के जरिए ग्रामीणों को शपथ दिलाई जाएगी.

Share This Post