मुस्करा उठा उत्तर प्रदेश जब UP पुलिस ने मार गिराया 1 लाख के इनामी मोस्ट वांटेड दुर्दांत अपराधी “तौकीर” को

समाज को भयमुक्त करने, आम जनता को शांति और संतुष्टि प्रदान करने के लिए उत्तर प्रदेश शासन ने अपने प्रशासन को जो निर्देश दिए हैं उन पर ऐसा अमल हो रहा है कि हर कोई खुद से ही बोल पड़ता है कि धन्य हैं ऐसे शासक और धन्य है ऐसा प्रशासन.. सुदर्शन न्यूज को दिए साक्षात्कार में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अपराधियों के पास मात्र 2 विकल्प होंगे, या तो वो अपराध छोड़ कर समाज की मुख्यधारा में खुद को शामिल कर लें , या फिर अपने अंजाम के लिए तैयार रहें..यकीनन ये आवाज तौकीर के कानों में गई रही होगी पर उसका ध्यान न देना ही बना उसके इस अंजाम की वजह..

विदित हो कि जिस प्रकार भारत की सेना ने कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन आल आउट चला रखा है , ठीक इसी प्रकार उत्तर प्रदेश पुलिस ने भी प्रदेश के अंदर अराजकता, गुंडागर्दी करने वाले अपराधियो के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है.. अपराध व अपराधियो की अलग अलग श्रेणी के हिसाब से उनके खिलाफ कार्यवाही भी उसी स्तर पर की जा रही है. जैसे बेहद निचले स्तर पर ऑपरेशन मजनू और बड़े स्तर पर ऑपरेशन मुकीम काला, ऑपरेशन आस मुहम्मद और अब ऑपरेशन तौकीर.. एक बार फिर से मुस्करा उठा है उत्तर प्रदेश जब उत्तर प्रदेश पुलिस की STF यूनिट के जांबाज़ों ने ढेर कर दिया समाज की शांति व सुरक्षा के लिए खतरा बन चुके 1 लाख के इनामी अपराधी तौकीर को..

ये एक बेहद सधा व सतर्क अभियान था जिसकी मोनिटरिंग खुद DGP ओ पी सिंह कर रहे थे..ये मुठभेड़ उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में हुई है , मारे गए अपराधी तौकीर के पास से पुलिस को 2 पिस्टल और 1 कार्बाइन मिली है जो उसके कुख्यात होने का सबसे बड़ा प्रमाण है.. तौकीर प्रतापगढ़ का ही रहने वाला था जिसका घर नगर क्षेत्र के आज़ाद नगर इलाके में था.. इसके अब्बा का नाम हाफीज था .. इस से पहले भी ये एक ग्राम प्रधान व एक नामी मार्बल व्यवसायी राजेश सिंह की हत्या कर चुका है.. इसने प्रतापगढ़ के नामी व्यवसाईयो से एक बार फिर से फोन पर रंगदारी मांगी थी और ये वही लेने आया था.. आखिरकार पुलिस ने अपना काम बाखूबी निभाया और समाज को मिली शांति और निर्भयता..तौकीर के ढेर होने पर समाज ने खुशी जाहिर की है और उत्तर प्रदेश के शासन व प्रशासन को धन्यवाद किया है..

Share This Post