Breaking News:

आप भी सलाम करेंगे इस सिपाही के साहस को जिसने बेटी की मौत की खबर बाद भी निभाई ड्यूटी व बचाई घायल की जान….देखिये कौन है ये योद्धा…..


पुलिस वाले निश्चय ही समाज के रक्षक होते हैं. जब एक सिपाही अपनी वर्दी पहिन लेता है तो उसके लिए उसके क्षेत्र का हर नागरिक हर व्यक्ति उसका परिवार होता है. और इसी बात को चरितार्थ किया है उत्तर प्रदेश के सहारनपुर पुलिस के जवान भूपेंद्र सिंह तोमर ने जिन्होंने अपनी बेटी की मौत की खबर सुनने के बाद भी ड्यूटी नहीं छोड़ी बल्कि अपने दायित्व का निर्वाह करते हुए एक अति घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुँचाया तथा उसकी जान बचाई.

23 फरवरी को ड्यूटी पर तैनात सिपाही भूपेंद्र सिंह को उनकी पत्नी राजेश देवी ने फोन कर रोते हुए कहा कि उनके बेटी ज्योति अब इस दुनिया में नही रही अतः वह तुरंत ड्यूटी से घर वापस आ जाएँ. बेटी की मृत्यु की खबर सुनने के बाद सिपाही भूपेंद्र सिंह सुन्न रह गये तथा फोन काट दिया क्युकी उस समय वह पेट्रोलिंग ड्यूटी पर थे तथा उन्हें खबर मिली थी कि कि रामपुर मनिहारान क्षेत्र में हादसे हादसे में गंभीर अवस्था मई घायल युवक सड़क किनारे पड़ा है, उसी के पास सिपाही भूपेंद्र सिंह जा रहे थे. बेटी की मौत की खबर सुनने के बाद भी भूपेंद्र सिंह की गाड़ी आगे बढ़ती रही, गाड़ी में साथ बैठे ड्राइवर भरत पांचाल ने फोन पर किसी महिला के रोने की आवाज सुनी तो भूपेंद्र सिंह से पूछा कि कौन रो रहा था, उन्होंने बताया कि पत्नी रो रही थी, क्योंकि हमारी बेटी की मौत हो गई है.

ये दर्दनाक व दुखद खबर सुनने के बाद भरत ने उनसे वापस जाने की बात कही, तो सिपाही भूपेंद्र सिंह ने कहा कि मेरी बेटी ज्योति अब इस दुनिया में नहीं है, लेकिन सड़क किनारे जो युवक घायल है, वह अभी जीवित है वह भी किसी के घर का चिराग होगा, इसलिए पहले उसे अस्पताल भिजवाएंगे,  इसके बाद ही मैं छुट्टी जाऊंगा. कुछ देर बाद ही वह घटना स्थल पहुंच गए और जख्मी युवक को अस्पताल में भर्ती कराया तथा समय पर अस्पताल पहुँचने पर युवक की जान बच सकी.

सिपाही की इस हिम्मत व शौर्य को सलाम करते हुए एसपी सिटी प्रबल प्रताप सिंह ने कहा कि भूपेंद्र तोमर ने ड्यूटी के प्रति जो समर्पण दिखाया, वह हर किसी के वश की बात नहीं है. वो हमारे सच्चे सिपाही हैं. भूपेंद्र के इस साहस के लिए के उन्हें सहारनपुर के एसपी तथा डीआईजी द्वारा सम्मानित भी किय गया है. निश्चय ही सिपाही भूपेंद्र जी वन्दनीय हैं सेल्यूट के पात्र हैं.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share