Breaking News:

शेर की तरह लड़ी UP की बाराबंकी पुलिस और मार गिराया दुर्दांत अपराधी मुशीर और इब्राहिम को.. पूरे प्रदेश से आई आवाज – “जय हिन्द जांबाज़’

यकीनन सराहना की पात्र है उत्तर प्रदेश की पुलिस को लगातार सक्रियता दिखाते हुए उत्तर प्रदेश को अपराध मुक्त करने के लिए हर सम्भव प्रयास कर रही है और उस प्रयास के सुखद फल भी मिलते दिख रहे हैं . समाज की रक्षा को प्रतिबद्ध उत्तर प्रदेश की बाराबंकी पुलिस के शौर्य को उस समय पूरे प्रदेश ने सैल्यूट किया जब एक साहसिक जंग में समाज के लिए कलंक के समान दो डाकुओं को मार गिराया गया ..

यद्द्पि इस मुठभेड़ में दोनों दुर्दांत डाकुओं को सरेंडर करने का पूरा अवसर दिया गया लेकिन उन्होंने अपना हमलावर रुख जारी रखा जिसका प्रतिउत्तर देने में आख़िरकार दो इनामी डाकू मारे गए . विदित हो की उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के रामनगर थाना क्षेत्र के सिलौटा पुल के पास शुक्रवार देर रात पुलिस की इनामी डाकुओं डकैतों से भीषण मुठभेड़ हो गई। इस मुठभेड़ में बाराबंकी पुलिस ने अद्भुद शौर्य का प्रदर्शन किया और मुठभेड़ खत्म होते होते 50-50 हजार रुपए के दो ईनामी दुर्दांत डाकू मार गिराए . इन डाकुओं से लड़ते हुए तीन जांबाज़ पुलिसवाले भी  मुठभेड़ नें घायल हो गए हैं जनका इलाज़ चल रहा है और प्रदेश इनके जल्द ठीक होने की प्रार्थना कर रहा है . 

ज्ञात हो कि मुखबिर द्वारा मिली सटीक सूचना पर बाराबंकी ने बहुत कम समय में खुद को इस मुठभेड़ के लिए तैयार किया .. मुठभेड़ के समय पुलिस के आगे तमाम चुनौतियाँ थी जिसमे आम नागरिको की सुरक्षा सबसे ज्यादा थी .. इन सब तैयारियों के साथ मुखबिर की सूचना पर टिकैतनगर और रामनगर थाना पुलिस ने दोनों ईनामी डकैतों का घेराव किया। सरेंडर करने के लिए कहे जाने पर इन दोनों डकैतों ने पुलिस पर हमला कर दिया और अंधाधुंध फायर झोंक दिया जिसके जवाब में पुलिस ने भी गोलियां चलाई .. मुठभेड़ के बाद मारे गए डकैतों की पहिचान उन्नाव के मुशीर और कानपुर नगर के इब्राहिम के रूप में हुई ..

50 – 50 के इनाम के साथ साथ इनके ऊपर करीब 17 मुकदमे दर्ज थे। पुलिस ने इनके पास से पिस्टल और असलहे भी बरामद किए हैं। मुठभेड़ में टिकैतनगर थानाध्यक्ष और एसएसआई रामनगर समेत एक सिपाही भी घायल हुए हैं, जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस के इस कार्य को सुन कर इन दोनों डाकुओं के शिकार बने और इनके द्वारा भयभीत जनता ने बाराबंकी पुलिस का दिल खोल कर धन्यवाद किया ..  बताया जा रहा है कि ये दोनों किसी नियम या कानून की परवाह नहीं करते थे और किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश रच रहे थे लेकिन इनके काले इरादों के बीच में खाकी वर्दी आ गयी और फिर जनता को मिली निर्भयता .. 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW