Breaking News:

योगी के तीखे तेवर से दागी पुलिसकर्मियों में मचा हड़कंप, यूपी में अब तक 100 से ज्यादा सस्पेंड

लखनऊ : यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी और उनके मंत्री सत्ता में आते ही एक्शन पर एक्शन ले रहे है। सीएम अपना पद संभालते ही प्रदेश में कई आदेश जारी हो चुके हैं। लेकिन सबसे ज्यादा अगर कहीं हड़कंप मचा है तो वह है पुलिस विभाग। कानून-व्यवस्था को लेकर उनके रुख से पुलिसकर्मियों में हड़कंप है। योगी राज में अब तक 100 से ज्यादा दागी पुलिसकर्मी सस्पेंड हो चुके हैं।

सबसे ज्यादा पुलिसकर्मी गाजियाबाद और नोएडा में सस्पेंड हुए हैं। गाजियाबाद में तो एक साथ करीब 45 दागी पुलिसकर्मी सस्पेंड किए गए। सीएम चाहते हैं जनता थाने में बिना किसी डर के अपनी बात कह पाये और फरियादी को पुलिस की ओर से पूरा सम्मान मिले। पीडित की तत्काल एफआईआर हो और थाना प्रभारी कानूनी कार्रवाई सुनिश्चित करे।

योगी ने अपनी यह मंशा गुरुवार को राजधानी की हजरतगंज कोतवाली के औचक निरीक्षण के दौरान जताई। पुलिसकर्मियों को व्यवहार में परिवर्तन लाने का निर्देश देते हुए कहा कि थाने पर फरियाद लेकर आने वाले शिकायतकर्ताओं को पूरा सम्मान दिया जाना चाहिए। आवश्यकतानुसार शिकायतकर्ताओं को कागज और कलम भी उपलब्ध कराया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हर पीड़ित व्यक्ति की तत्काल एफआइआर दर्ज कर थाना प्रभारी द्वारा वैधानिक कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। लेकिन अगर जांच के दौरान पता चले कि एफआइआर विद्वेष की भावना से गलत दर्ज कराई गई है तो शिकायतकर्ता के खिलाफ कार्रवाई भी की जाए। योगी ने यह भी कहा कि प्रदेश के चहुंमुखी विकास और इसके प्रति लोगों की धारणा में सुधार के लिए राज्य की कानून-व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाया जाएगा।

बताया जा रहा है कि अभी इन पुलिसकर्मियों की संख्या अभी बढ़ सकती है। डीजीपी के आदेश पर लखनऊ में सात इंस्पेक्टर्स को निलंबित किया गया है। मेरठ और लखनऊ में भी पुलिसकर्मी निलंबित किए गए हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस के जन संपर्क अधिकारी राहुल श्रीवास्तव ने बताया है कि प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद अभी तक 100 से अधिक पुलिसकर्मी सस्पेंड हो चुके हैं। दागी पुलिसकर्मियों को निलंबित करने का फैसला डीजीपी जावीद अहमद के आदेश के बाद लिया गया है।

Share This Post