फैज़ाबाद में दबोच लिया गया हिन्दुओ को ईसाई बनाने वाला पादरी . हिन्दू रहें गुमराह इसलिए नाम रखा था “सुशील”

ये नगरी थी भगवान श्री राम के जन्म की . यहाँ पर अयोध्या है जो दुनिया भर के हर हिन्दू की आस्था का मुख्य केंद्र है लेकिन यहाँ भी एक बहरूपिये ने हिन्दुओ को निशाने पर लिया था और उन्हें समझा रहा था वो धर्म त्यागने के लिए जिसको एक अनमोल धरोहर के रूप में उसके पुरखों ने सहेज कर रखा था . दिल्ली में अभी हाल में ही सुदर्शन न्यूज ने एक इसी प्रकार के दुस्साहसिक कार्य करने वाले को बेनकाब किया था जिसने हिन्दुओ को गुमराह करने के लिए अपने नाम में रामबाबू लगा रखा था . यहाँ भी कमोबेश वैसा ही मामला है जब इस अभियुक्त ने अपना नाम सुशील रखा हुआ है . 

ज्ञात हो कि धर्म नगरी अयोध्या से जुड़े शहर फैजाबाद में धर्म परिवर्तन की आहट से उस समय हड़कंप मच गया जब जिला पुलिस को सूचना मिली कि शहर के शिक्षित और पढ़े लिखे लोगों की कालोनी मानी जाने वाली सिंचाई विभाग की कॉलोनी में ईसाई मत प्रचारकों द्वारा हिन्दुओ को धर्मान्तरित करवाया जा रहा है.धर्म परिवर्तन हो रहा है. इस घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने ईसाई पादरी को कस्टडी में ले लिया. खुद को पकड़े जाते देख और पुलिस से घिरा देख कर पादरी और उसके चेलों ने वहां पर किसी प्रकार के धर्म परिवर्तन ने करने और केवल प्रार्थना करने की बात कह कर बच निकलने का प्रयास करते दिखे ..

इस पूरे मामले में सबसे ज्यादा हैरान कर देने वाला पहलू ये था की जो लोग वहां जमा थे उनके मां बाप इस बात को नहीं जानते थे कि उनके बच्चे ईसाई धर्म की प्रार्थना करते हैं। यह कार्यक्रम किसी चर्च में ना होकर सिंचाई विभाग की कॉलोनी के एक कमरे में हो रहा था।  फैजाबाद शहर के थाना कैंट क्षेत्र के टीवी टावर के पास सिंचाई विभाग की कॉलोनी की एक कमरे में धर्म परिवर्तन का खेल चल रहा था। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने पादरी सुशील को कस्टडी में ले लिया है।मौके पर पहुंचे प्रभारी एसएसपी संजय कुमार एसपी सिटी अनिल सिंह सिसोदिया सीओ सिटी संजय कुशवाहा ने जांच शुरू कर दी है। पता चला है कि यह धर्म परिवर्तन का ये खेल पिछले 1 महीने से चल रहा था।आसपास के बच्चे महिला व पुरुष सिंचाई विभाग के कॉलोनी के कमरे में आकर ईसा मसीह की प्रार्थना करते थे ..

यद्दपि अभी तक किसी ने जबरदस्ती प्रार्थना करवाने की बात नहीं स्वीकारी है लेकिन उनके मां-बाप ने उनके बच्चों की इस कदम से बौखलाए जरूर है.. और पूरा आरोप सुशील पादरी पर लगाया है कि वह बच्चों को गुमराह कर रहे हैं। सिंचाई विभाग की कॉलोनी के कमरे में 50 से 60 लोग ईसा मसीह की प्रार्थना कर रहे थे। बताया जा रहा है कि हिंदू से ईसाई बना सुशील पादरी बच्चों महिलाओं और पुरुषों को बुलाकर उनका माइंड वास करता था और उसके बाद ईसाई धर्म की शिक्षा देकर धर्मांतरण करवाता था। यह खेल काफी दिनों से चल रहा था लेकिन आज जब पुलिस को सूचना मिली तो उसकी पोल खुल गई फिलहाल आरोपी पादरी कैंट पुलिस की कस्टडी में है। 

राष्ट्रवाद पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW