कई लोग उनके निशाने पर थे, हालात ये थे कि पुलिस को उतरना पड़ा PAC के साथ

अपराधियों के खिलाफ यूपी पुलिस की ताबड़तोड़ कार्यवाही जारी है. अपराधियों पर लगाम कसने के लिए योगी सरकार ने यूपी पुलिस को फ्री हैण्ड दे रखा है और उसका परिणाम भी नजर आ रहा है जब पुलिस का नाम सुनते ही बड़े से बड़े अपराधियों के हौसले पस्त हो रहे हैं. दो दिन पहले ही यूपी पुलिस की मथुरा टीम ने खायरा गाँव में ताबड़तोड़ छापेमारी की थी जहाँ से पुलिस ने चोरी के 80 ट्रैक्टर पकड़े थे. अब छाता के गांव खायरा के बाद शुक्रवार को बरसाना का गांव हाथिया मथुरा पुलिस के निशाने पर रहा. पुलिस और पीएसी के जवानों के आठ घंटे के सर्च आपरेशन से गांव में भगदड़ मच गई. शातिर अपराधी घरों को छोड़कर भाग खड़े हुए. पुलिस ने अवैध हथियारों के साथ तीन लोगों को पकड़ा है.

खबर के मुताबिक़, दो दिन तक छाता के गांव खायरा में 80 ट्रैक्टर बरामद करने वाली पुलिस शुक्रवार को बरसाना के गांव हाथिया पहुंची. एसएसपी प्रभाकर चौधरी के निर्देश पर मुस्तैदी से जुटी पुलिस और पीएसी के जवानों ने आठ घंटे तक गांव हाथिया में सर्च आपरेशन चलाया. बरसाना पुलिस ने यहां से शब्बीर, अली हुसैन और उमर को दबोचा है. तलाशी में इनके घरों से एक बंदूक, तमंचा, 25 कारतूस, हथियार बनाने के उपकरण, एक ट्रैक्टर और दो बाइकें बरामद की हैं. सर्च आपरेशन में एसपी देहात आदित्य शुक्ला, एसपी ट्रैफिक डा. ब्रजेश कुमार सिंह, सीओ गोवर्धन जगवीर सिंह चौहान, सीओ छाता चंद्रधर गौड़ आदि मौजूद रहे.
सर्च अभियान की समाप्ति के बाद बरसाना प्रभारी निरीक्षक सुनील कुमार तोमर ने हरियाणा से तस्करी करके ले जाई जा रही देशी शराब का जखीरा भी पकड़ा है. तलाशी में टाटा 407 में तीन हजार देशी शराब के क्वार्टर बरामद हुए. पुलिस का कहना है कि खायरा गाँव की तरह हथिया गाँव भी एक तरह से अपराधियों का गढ़ बनता जा रहा था. हमें पुख्ता जानकारी मिली थी कि गँवा मैं अविअध हथियारो का जखीरा है इसीलिये हमें PAC बुलानी पड़ी. पुलिस का कहना है कि यूपी पुलिस राज्य को अपराधियों से मुक्त करके ही रहेगी.

Share This Post