गौ ह्त्या के आरोपियों के डर से घर छोड़कर भाग रहा एक परिवार… काश थानेदार असलम ने सुना होता उनका दर्द

देश में मजहबी उन्मादियों का आतंक किस कदर बढ़ता जा रहा है, इसका जीता जागता उदाहरण  है उत्तर प्रदेश के मेरठ ही ये घटना जहाँ मजहबी आक्रान्ताओं के कहर के कारण हिन्दू परिवार पलायन को मजबूर है. आश्चर्य की बात ये है कि स्थानीय थानेदार असलम ने इस मामले के पीड़ितों का दर्द नहीं सुना. आपको बता दें कि लिसाड़ी गेट थाना प्रमुख मोहम्मद असलम पर पहले इअसे मामलों में पक्षपात के आरोप लग चुके हैं. ये वही असलम हैं जिन्होंने एक मोस्ट वांटेड अपराधी को लड्डू खिलाकर, माला पहनाकर सम्मान किया था तथा कहा था कि अब इसने अपराध छोड़ दिया है. ऐसे कई मामलों में थानेदार असलम की मजहबी सोच सामने आयी है.

खबर के मुताबिक़ मेरठ के लिसाड़ी गेट लिसाड़ी गेट की प्रहलादनगर विकासपुरी कालोनी में छेड़छाड़ और दबंगई से परेशान परिवार ने मकान पर पलायन का बोर्ड लगा दिया. पुलिस में हड़कंप मचा तो दिन से थाने में पड़ी तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया. छह लोगों को बलवे और छेड़छाड़ का आरोपी बनाया गया. सीओ से लेकर एसपी सिटी ने संज्ञान लिया और पीड़ित परिवार से बातचीत की. खुलासा हुआ कि छेड़छाड़ और हथियारों के बल पर मारपीट करने वाले आरोपियों में एक करोड़ की लूट का आरोपी भी शामिल है. विकासपुरी प्रहलादनगर निवासी इस परिवार के मुखिया विकलांग हैं. परिवार में पत्नी और दो बेटियां हैं. मोहल्ले में गोकशी करने वाले कुछ युवक रहते हैं. तीन दिन पहले पीड़ित परिवार की दोनों बेटियों से आरोपी इरशाद और नौशाद ने छेड़छाड़ कर दी. युवतियों ने विरोध करते हुए सरेराह एक युवक को थप्पड़ मार दिया. इसके बाद आरोपियों ने अपने साथियों के साथ मिलकर युवतियों के घर पर धावा बोल दिया. पिस्टल, रिवाल्वर और तमंचे लेकर आए छह-सात आरोपियों ने दोनों युवतियों और उनके माता-पिता को जमकर पीटा. सड़क पर घसीटकर ले आए और वहां कपड़े फाड़ डाले. इसके बाद आरोपी युवक धमकी देते हुए फरार हो गए.

मामले में पीड़िता की मां ने लिसाड़ी गेट थाने में तहरीर दी। इसके बाद भी पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया। सोमवार को पीड़ित परिवार ने अपने मकान पर पलायन का बोर्ड लगा दिया। लिख दिया कि गोकशी के बदमाशों से तंग आकर पलायन। इस सूचना पर पुलिस में हड़कंप मच गया। तुरंत ही थाना पुलिस पीड़ित परिवार के घर पहुंची और मिन्नतें कर मामला संभाला। आरोपियों पर मुकदमा दर्ज करने की बात कहकर पुलिस ने बोर्ड उतरवाया। इसके बाद पुलिस ने आरोपी इरशाद, नौशाद, अरशद, शहजाद, मुन्ना के खिलाफ बलवे, छेड़छाड़, मारपीट, धमकी देने समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया। आरोपियों की धरपकड़ के लिए दबिश दी गई, लेकिन अभी तक आरोपी हाथ नहीं आए हैं.

Share This Post

Leave a Reply