Breaking News:

गोरखपुर में खुलने वाला है #Supar30 … #YogiAdityanath होंगे इसके कर्णधार.. आखिर क्या है ये “सुपर 30”

योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में निश्चित ही उत्तर प्रदेश तरक्की के पथ पर आगे बढ़ रहा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी हर उस प्रयास को पूरी म्हणत के साथ कर रहे हैं जिससे उत्तर प्रदेश की स्थिति में सुधार हो चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो, गरीबी उन्मूलन की योजनायें हों या रोजगार के प्रयास हों. लेकिन यूपी के छात्रों के लिए योगीराज में एक और खुशखबरी आने वाली है. अब उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में IIT की निशुल्क तैयारी कराने वाली संस्था “सुपर 30” अपनी ब्रांच खोलने जा रही है.

गौरतलब है सुपर 30 एक कोचिंग सेंटर है जो बिहार की राजधानी पटना में स्थित है. इस सुपर 30 संस्था का संचालन देश के महान गणितज्ञ आनंद कुमार जी संचालित करते हैं. सुपर 30 में हर वर्ष देशभर के 30 युवाओं को सेलेक्ट किया जता है फिर उन्हें IIT की निशुल्क तैयारी कराई जाती है. इस दौरान के छात्रों के रहने खाने पीने की व्यवस्था संस्था की ही होती है. लेकिन यूपी के छात्रों के ये खुशखबरी है कि सुपर 30 अब यूपी में भी खुलेगा. एक निजी स्कूल के कार्यक्रम में हिस्सा लेने गोरखपुर पहुंचे ‘सुपर 30’ के संस्थापक आनंद कुमार ने बताया कि मई 2018 में होने वाली प्रवेश परीक्षा के बाद सुपर 30 का स्वरूप बदलकर सुपर 90 हो जाएगा. आनंद कुमार ने बताया कि मई 2018 में जेईई परीक्षा के तैयारी के लिए प्रवेश परीक्षा के माध्यम से 30 के बजाए 90 बच्चों का चयन होगा. चयनित छात्र-छात्राओं को मुफ्त ट्यूशन और रहने-खाने की व्यवस्था पहले की तरह ही रहेगी.

आनंद कुमार ने कहा कि गोरखपुर में सुपर 30 के नाम से छठी से बारहवीं क्लास तक का सीबीएसई बोर्ड से मान्यता प्राप्त एक स्कूल जल्द ही खुलेगा. इस स्कूल का संचालन सुपर 30 ट्रस्ट करेगा. उन्होंने कहा कि हाल ही में उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात के दौरान इस विषय पर चर्चा हुई थी. सीएम ने सुपर 30 को गोरखपुर जिले में लाने की बात आनंद कुमार से कही थी. साथ ही सीएम ने स्कूल के लिए सरकार द्वारा जमीन मुहैया कराने का आश्वासन भी दिया था. आनंद ने बताया कि इस स्कूल में बच्चों को शुरू से ही प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार किया जाएगा, ताकि वह आईआईटी के साथ अन्य क्षेत्रों में जाने के लिए तैयार हो सकें. आनंद कुमार ने बताया कि अब तक सुपर 30 में कुल 450 बच्चे चयनित हुए हैं. इनमें से 396 बच्चों का चयन आईआईटी के लिए हुआ, जबकि अन्य बच्चों ने एनआईआईटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में अपनी जगह बनाई.

Share This Post