कश्मीर में ही नहीं कानपुर में ISIS की दस्तक.. प्रिंसिपल के कत्ल का संबंध इस्लामिक स्टेट से


आतंकियों को जहाँ सैनिकों द्वारा करारा जवाब दिया जा रहा है. वहीँ इन आतंकियों की बाकि रणनीतिओं की जांच की शुरुवात हो चुकी है. जिसके अलावा कई अन्य तरीके के इन कट्टर आतंकियों के खुलासे हो रहे हैं. जिसमे पुलिस और कुछ ख़ुफ़िया एजेंसी भी जांच करने में जुटी है। फिर एक नया खुलासा हुआ जिसमे पुलिस ने 2 आतंकी पकड़े हैं. और उन्होंने कई अन्जामो के खुलासे किए हैं. जिसमे की कानपूर के एक सेवानिवृत प्राचार्य रमेश चंद्र की इन आतंकियों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी।

इस मामले की जाँच के लिए एनआईए यह मामला सौंप दिया गया है। पूछताछ में दोनों आतंकियों के नाम मोहम्मद अतीफ मुजफ्फर और दानिश सामने आए हैं। अतीफ और दानिश को मध्यप्रदेश पुलिस ने ट्रेन विस्फोट के शीघ्र बाद गिरफ्तार किया था। अतीफ और दानिश ने कथित तौर पर जांचकर्ताओं को बताया कि उन्होंने कानपुर में गंगा तट पर पिस्तौल चलाने का अभ्यास किया और फिर वे किसी व्यक्ति को निशाना बनाने लिए मोटरसाइकिल से सैफुल्लाह के साथ कानपुर की गलियों में चल पड़े।

वहां उन्हें साइकिल से जाते हुए 62 वर्षीय शुक्ला दिख गये। अतीफ और दानिश ने अपनी पिस्तौल निकाली तथा उन्होंने गोली मारकर शुक्ला की हत्या कर दी थी।

शुक्ल की हत्या के अगले दिन यह खबर अख़बारों में छपी थी. जिससे दोनों आतंकियों ने एक दूसरे को ख़ुशी भी जताई इसके अलावा दोनों ने एक दूसरे को बधाई भी दी। इस साल सात मार्च को मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले में जाबडी रेलवे स्टेशन के समीप भोपाल उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में कम क्षमता के एक बम के विस्फोट होने से दस लोग घायल हो गये थे। ऐसी कई अन्य जानकारी अधिकारी निकालने में जुटे हुए हैं हालाकि दोनों आतंकियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share