Breaking News:

कुंभ के यात्री स्नान इस बार इलाहाबाद नहीं बल्कि प्रयागराज में करेंगे… गूँज उठी शंखध्वनि उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद के इस बयान से

कुंभ में आने वाले श्रद्धालु इस बार इलाहाबाद कुंभ नहीं बल्कि प्रयागराज कुंभ में स्नान करेंगे. उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्या के इस एलान के बाद न सिर्फ संत समाज बल्कि देश-विदेश के सभी सनातन अनुयायी खुशी से झूम उठे हैं. उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्या ने एलान कर दिया है कि इलाहाबाद अब इलाहाबद नहीं रहेगा बल्कि प्रयागराज बनेगा तथा में दावे के साथ वादा करता हूँ कि अगला कुंभ स्नान इलाहाबाद नहीं बल्कि प्रयागराज में किया जाएगा.

ज्ञात हो कि संगाम नगरी का नाम इलाहाबाद से बदलकर प्रयागराज करने की मांग कभी समय से उठती रही है तथा उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आने व योगी आदित्यनाथ जी के मुख्यमंत्री बनने के बाद इस मांग ने जोर पकड़ लिया है. पिछले दिनों ही ये खबरें आयी थी कि इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने की तैयारी की जा रही है. इससे पहले भी इलाहाबाद का नाम प्रयाग रखने को लेकर योगी सरकार के मंत्री बयान दे चुके हैं. ऐसे में डेप्युटी सीएम के ऐलान से साफ है कि इलाहाबाद का नाम बदले जाने में अब ज्यादा देर नहीं है. केशव प्रसाद मौर्य ने इलाहाबाद में मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि कुंभ के आयोजन से पहले इलाहाबाद बदलकर प्रयागराज हो जाएगा. उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री और यूपी सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने हाल ही में कहा, ‘उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक (महाराष्ट्र के पूर्व सांसद) ने बॉम्बे का नाम मुंबई करवाने में मदद की थी. मैंने राज्यपाल को खत लिखकर इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयाग करने पर विचार करने को कहा है.

बता दें कि तीर्थराज प्रयाग के नाम से मशहूर इलाहाबाद में अगले साल संगम पर कुंभ मेला होना है. योगी सरकार इसकी अंतरराष्ट्रीय ब्रैंडिंग पर काम कर रही है. इसी बीच संघ से जुड़े संगठनों, अखाड़ा परिषद और बीजेपी के स्थानीय नेताओं ने इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयाग या प्रयागराज करने की मांग कर रहे हैं. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि प्रयाग आगमन के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने यह प्रस्ताव रखा था. सीएम की भी यही मंशा है.  उन्होंने सैद्धांतिक तौर पर सहमति जताई है. सरकार यह फैसला कुंभ के पहले ले लेगी तो आयोजन और भव्य हो सकेगा. ऐसे में केशव प्रसाद मौर्या के एलान के बाद तय हो गया है कि जल्द 2019 के शुरुआती दिनों में इलाहाबाद को प्रयागराज के नाम से जाना जाने लगेगा.

Share This Post