मेरठ में लहराई गईं नंगी तलवारें… वृन्दावन से लौटे परिवार पर मजहबी कट्टरपंथियों का हमला… इलाका बना पुलिस छाबनी

उत्तर प्रदेश मेरठ मजहबी आक्रांताओं के कहर से दहल उठा. मामूली सी बात से शुरू हुआ विवाद ने साम्प्रदायिक तनाव का रूप ले लिया तथा उन्मादियों ने हिन्दू समुदाय के लोगों पर भीषण अंदाज में धारधार हथियारों, तलवार आदि से हमला कर दिया सूचना पर पहुँची पुलिस ने जैसे तैसे मामला संभाला. खबर के मुताबिक़, मेरठ कोतवाली के मोरीपाड़ा में सोमवार शाम रास्ते से स्कूटी हटाने को लेकर दो समुदाय के लोगों में खूनी संघर्ष के बाद सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया. संघर्ष में एक ही परिवार के चार लोग घायल हो गए. भाजपाइयों ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कोतवाली थाने में हंगामा काटा.

सीओ मेरठ कोतवाली दिनेश शुक्ला के मुताबिक मोरीपाड़ा कोतवाली निवासी राहुल, शिवम व राजन पुत्र राकेश शुक्ला परिवार के साथ दो कारों से वृंदावन से शाम चार बजे लौटे थे. मोरीपाड़ा स्थित कृष्णा कॉलोनी में रास्ते में सलमान की स्कूटी खड़ी थी. राहुल ने सलमान से स्कूटी हटाने की बात कही. आरोप है कि सलमान व उसके भाई फैजान, रिहान समेत पांच लोग पहुंचे तथा राहुल के साथ बहस करने लगे. कहासुनी पर राहुल के पिता राकेश कार से उतरे तो सलमान और उसके भाइयों ने उनके साथ हाथापाई कर दी. पिता से हाथापाई होते देखकर तीनों बेटे भी कार से उतर आए. आरोप कि सलमान ने फोन करके कई युवकों को बुला लिया. आरोपियों ने तीनों भाइयों और उनके पिता पर धारदार हथियार से हमला बोल दिया. चीख पुकार सुनकर जमा हुए आसपास के लोगों ने जैसे राहुल व् उनके परिजनों को बचाया.

भीड़ इकट्ठी होती देख उन्मादी हमलावर धमकी देकर भाग निकले. सूचना पर भाजपा नेता कमलदत्त शर्मा कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे और पुलिस से हमलावरों को गिरफ्तार करने की मांग की. पुलिस ने बताया कि कृष्णा कॉलोनी स्थित कांप्लेक्स में सलमान और उसके भाइयों की दुकानें है. कहासुनी होते ही दुकानों से उनके कर्मचारी औजारों को लेकर पहुंच गए. आरोप है कि कर्मचारियों ने उन्हीं औजारों से तीनों भाइयों पर हमला बोला. तीनों भाइयों को घायल करने के बाद हमलावर भाग गए. स्थिति इतनी ख़राब हो गयी कि क्षेत्र में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात करना पड़ा.

Share This Post