शौहर के भाई व अब्बा दोनों तैयार थे हलाला करने के लिए लेकिन अंत में महिला ही मुकर गयी और बिगड़ गयी बात

मुस्लिम महिला गुलशन को जब उसके पति समीउल्लाह ने तीन तलाक दे दिया तो महिला के देवर तथा ससुर की तो मानो लार टपकने लगी. गुलशन से बोल दिया गया की समीउल्लाह उसे अपना लेगा लेकिन इससे पहले वह देवर या ससुर के साथ हलाला करे. इधर देवर अपनी भाभी का हलाला करने को तैयार होकर बैठ गया तो ससुर कहने लगा कि वह अपनी बहू के साथ हलाला करेगा. दोनों उस महिला के साथ हलाला को तैयार थे लेकिन अंत में महिला ने मना कर दिया तो मामला बिगड़ गया.

मामला उत्तर प्रदेश के जौनपुर का है. खबर के मुताबिक, जौनपुर के खेतासराय थाना क्षेत्र निवासी गुलशन की शादी खुटहन थाना क्षेत्र के धमौर गांव निवासी समीउल्लाह के साथ हुई थी. समीउल्लाह से उसके तीन बच्चे हैं. गुलशन का कहना है कि शादी के बाद उससे एक लाख रूपये और मांगे गये. गुलशन के अनुसार एक लाख रूपए दहेज की मांग पूरा नहीं होने पर वर्ष 2014 में उसके पति समीउल्लाह व ससुराल वालों ने उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया. गुलशन ने बताया कि इसके बाद समीउल्लाह ने उसे तीन तलाक ददे दिया. तीन तलाक के बाद मीडिएशन सेंटर में सुलह समझौता का प्रयास हुआ. सेंटर के बाहर पति ने कहा कि तुम्हें इस शर्त पर रखने को तैयार हूं यदि तुम मेरे भाई या फिर मेरे पिता से हलाला और तीन तलाक कराने को तैयार हो.

गुलशन ने कहा कि वह हलाला की आड़ में गैर मर्द के साथ इच्छा के विरुद्ध संबंध बनाने के लिए राजी नहीं हुई तथा इससे इनकार कर दिया. इसके बाद समीउल्ला उसे गालियां दिया और कहा कि तुम और बच्चे जियो या मरो. कहीं जाकर अपनी जान दे दो, मुझे कोई मतलब नहीं तथा जाओ और सरकार से खर्चा लो. गुरूवार को एसपी दफ्तर महिला गुलशन पहुंची लेकिन एसपी से मुलाकात नहीं हुई तो वह दीवानी न्यायालय गई. महिला का कहना है कि वह दुखी और निराश जरूर है लेकिन चाहे कुछ भी हो जाए वह अपना शरीर पति के भाई व पिता को नहीं सौंपेगी. उसने कहा कि उसे विश्वास है उसे भारतीय कानून से न्याय मिलेगा तथा उसके पति समीउल्लाह व् उसके परिवार को सजा मिलेगी.

Share This Post