Breaking News:

कूड़ा तो सिर्फ एक बहाना था.. असल में उनको बहाना था लहू और वो बहा भी लेते अगर सक्रिय न होती पुलिस

शायद वह सोच कर बैठे थे कि कब उन्हें मौक़ा मिले तथा वह अपनी मजहबी उन्मादी सोच से दहशत फैला सकें, निर्दोषों का लहू बहा सकें. और आखिरकार वो मौक़ा उन्हें मिल गया जब कूड़ा फेंकने को लेकर उन्होंने निकाल लिए धारधार हथियार तथा टूट पड़े निर्दोषों पर. अगर सही समय पर पुलिस न पहुँची होती तो पट न कितनों का लहू बहता.

मामला पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कैराना क्षेत्र का है. बताया गया है कि कैराना के अलीपुर गांव में कूड़ा डालने के विवाद को लेकर दो पक्षों के बीच जमकर लाठी-डंडे और धारदार हथियार चले. जिसमें छह लोग घायल हो गए. घायलों में एक महिला सहित तीन लोगों को गंभीर हालत में जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है. मामला दो समुदाय का होने के कारण दोनों पक्षों के बीच तनाव व्याप्त है. बताया गया है कि क्षेत्र के ग्राम अलीपुर निवासी मुरशद और महक सिंह पक्ष के बीच शुक्रवार सुबह सात बजे कूड़ा डालने को लेकर विवाद हो गया. दोनों पक्षों के बीच गाली-गलौज होने के साथ ही वह आमने-सामने आ गए. इसके बाद मुरशद तथा उसके साथियों ने महक व उसके परिवार के लोगों पर हमला बोल दिया.

महक सिंह का परिवार जब तक कुछ समझ पाता तब तक आक्रांता उन पर टूट चुके थे. इतने में किसी ने पुलिस को सूचना दे दी. सूचना पर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची तथा लाठियां फटकार कर मामले को बढ़ने से रोका. पुलिस ने घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भर्ती कराया गया. जहां से चिकित्सकों ने गंभीर घायलों को जिला चिकित्सालय के लिए रेफर कर दिया. मामले में दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के विरुद्घ कोतवाली पर तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है. उधर, मामला दो समुदाय का होने के कारण दोनों पक्षों के बीच तनाव बन गया. कार्यवाहक कोतवाली प्रभारी सुनील दत्त का कहना है कि दोनों पक्षों की तहरीर मिली है. रिपोर्ट दर्ज कराकर कार्रवाई की जाएगी.

Share This Post