Breaking News:

लड़की को छेड़ रहा था अरसद.. अचानक अहमद आया और बोला- हम तुम्हें बचाने आये हैं.. और लड़की ने विश्वास कर लिया अहमद पर

वो दोनों  लड़कियां मजार पर गई थी, तभी अरसद तथा समीर दोनों को बहलाकर जंगल ले गए तथा छेड़छाड़ करने लगे. तभी अहमद वहां अपने 4 साथियों के साथ आया तथा बोला कि वह उनको बचाने आये हैं. दोनों लड़कियों ने अहमद पर विश्वास कर लिया, जिसके बाद समीर तथा अरसद भाग गए और फिर इज्जत बचाने आये अहमद ने ही अपने साथियों के साथ दोनों युवतियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म कि घटना को अंजाम दिया.

मामला उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर के सितारगंज का है. मामले की शिकायत दर्ज कराने कोतवाली पहुंची महिला ने बताया कि शनिवार शाम करीब तीन बजे ईद पर उनकी बेटी अपनी सहेली के साथ पंडरी गांव स्थित एक मजार पर पहुंची. तभी दो युवक समीर और अरशद वहां पहुंचे और बहला फुसलाकर जंगल की और ले गए तथा वहां ले जाकर छेड़छाड़ करने लगे. लड़कियों के विरोध करने की आवाज सुनकर वहां 5 युवक आये तथा समीर व् अरशद को भगा दिया व फिर पांचों ने दोनों किशोरियों से साथ यहां गैंगरेप किया. आरोप है कि युवकों ने किशोरियों की लाठी-डंडों से पिटाई भी की. एक किशोरी के कपड़े तक फाड़ डाले और मोबाइल से फोटो खींचकर वायरल करने की धमकी दी. इसी बीच, वहीं मवेशी चरा रहे ग्वालों और अन्य लोगों के पहुंचने पर आरोपी फरार हो गए.

गैंगरेप पीड़ित किशोरियां शनिवार देर शाम करीब पांच बजे घायलावस्था में घर पहुंची तो उनमें से एक किशोरी की मां ने उसके फटे कपड़े और चेहरे पर चोट के निशान देखे. पूछने पर उस वक्त किशोरी ने कुछ नहीं बताया. लेकिन, रात करीब दस बजे उसने अपनी मां को पूरी घटना बताई. इसके परिजन रात में ही दूसरी पीड़ित किशोरी के घर गए. उसने भी घटना बयां की. इसके बाद रविवार सुबह करीब 11 बजे एक किशोरी के परिजन कोतवाली पहुंचे और उसकी मां ने पुलिस में तहरीर दी. पुलिस ने किशोरियों की निशानदेही पर तीन युवकों को उनके घरों और जंगल किनारे से हिरासत में ले लिया. समाचार लिखे जाने तक पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया था. सीओ शाह ने बताया कि गैंगरेप की घटना के दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जाएगा.

Share This Post