Breaking News:

ससुर के पास शिकायत करने गई कि शौहर तीन तलाक दे चुका है.. ससुर बोले- “मुझसे निकाह कर लो, मर्द हूँ”

उसके शौहर ने उसे तीन तलाक दे दिया, जब वह शिकायत लेकर अपने ससुर के पास शिकायत करने प्पहुंची तो ससुर ने कहा कि मेरे बेटे ने तुझे तलाक दे दिया तो क्या हुआ, मैं हूँ न. बहू तू एक काम कर, मेरे साथ निकाह कर ले, मैं भी मर्द हूँ जो मेरा बेटा तुझे देता था वही मैं सब दूंगा. शर्मशार करने वाला ये मामला उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से सामने आया है. सीबीगंज थाना क्षेत्र के कांशीराम कॉलोनी में रहने वाली महिला के शौहर ने पहले से शादीशुदा होने की बात छिपाकर निकाह किया. उसके बाद गर्भवती होने पर मारपीट कर घर से निकाल दिया. छह महीने बाद उसे फोन पर तीन तलाक दे दिया. बेटी के पैदा होने के बाद जब वह ससुराल पहुंची तो शौहर ने उसे अपनाने से मना कर दिया.

पीड़िता अपने पति के सामने काफी गिड़गिड़ाई लेकिन जब वह नहीं माना तो पीड़िता अपने ससुर के पास गुहार लगाने पहुंची. इस पर ससुर ने कहा कि वो तो रखेगा नहीं मेरे साथ रह ले, मैं भी मर्द हूँ, जिंदगी भर रखने को तैयार हूं. इसके बाद पीड़िता ने एसएसपी ऑफिस में न्याय की गुहार लगाई है. यह पूरी कहानी है शादना बी की. शादना बी का कहना है कि उसकी शादी 2013 में मीरगंज के मोहम्मद आरिफ से हुई थी. उसका आरोप है कि आरिफ ने अपने शादीशुदा होने की बात छिपाकर निकाह किया था. इसके बाद जब शादना चार महीने की गर्भवती हुई तो उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया गया. छह महीने पहले आरिफ ने उसे फोन पर तीन बार तलाक बोल दिया. बेटी के जन्म के बाद जब शादना बी ससुराल पहुंची तो पति ने उसे साथ रखने से इनकार कर दिया.

शादना ने बच्ची का वास्ता भी दिया लेकिन आरिफ नहीं पिघला और बोला ‘मैंने तुझे तलाक दे दिया है. अब सात शादियां करूंगा.’ इसके बाद शादना जब पति की शिकायत लेकर ससुर के पास पहुंची तो उसने कहा कि वह तो रखेगा नहीं, मेरे साथ रह ले. इसके बाद शादना बी ने ‘आम आवाज’ संगठन की संस्थापक से मिलकर न्याय की गुहार लगाई. इसके बाद बुधवार को ‘आम आवाज’ संगठन की संस्थापक फहीम यास्मीन और अध्यक्ष सैयद शारिक अली पीड़िता को लेकर एसएसपी ऑफिस पहुंचे. पुलिस का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में आया है तथा आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी.

Share This Post