कई कट्टरपंथियों से अकेली लड़ती एक महिला, जिसका नाम है “निदा खान” … अब उतार दिया बुर्का

इस्लामिक मजहबी कट्टरपंथियों के खिलाफ महिला स्वाभिमान की लड़ाई लड़ रही बरेली आला हजरत खानदान की बहू रहीं निदा खान ने एक बार फिर से कट्टरपंथियों को ललकारा है. मजहबी कट्टरपंथियों के चुनौती बनी निदा खान ने इस बार burka उतार दिया है तथा एलान कर दिया है कि वह महिलाओं को हेय द्रष्टि से देखने वाली हर कुरीति की खिलाफात करेंगी. हमेशा बुर्का में नजर आने वाली निदा खान लखनऊ में राज्य अल्पसंख्यक आयोग की तरफ से आयोजित सुनवाई में वह बगैर नकाब के नजर आईं.

सभी जानते हैं कि बुर्का निदा खान की पहचान था. घर की दहलीज से बाहर कदम निकालने से पहले वह बुर्का पहन लेती थीं. बुर्का पहनकर ही अदालत में तारीख पर जातीं और प्रशासनिक व पुलिस अफसरों से भी बुर्का पहनकर ही मिलती थीं. मीडिया का सामना करते समय भी बुर्का पहने रहती थीं. लेकिन बुधवार को निदा खान जब लखनऊ पहुँची तो हर कोई चौंक गया क्योंकि निदा खान इस बार बुर्का पहनकर नहीं आयीं थी जो एक संकेत था कि निदा खान अब कट्टरपंथ के खिलाफ और अधिक मजबूती के साथ लड़ने की तैयारी कर चुकी हैं. दरअसल निदा खान के बुर्का उतारने की इबारत देहरादून में लिखी गई, जब वह मंगलवार को वहां भाजपा सरकार में राज्यमंत्री रेखा आर्य से मिलीं.  मंत्री ने निदा के सामने फोटो खिंचवाने से पहले निदा खान से कहा कि बुरका के खिलाफ भी लड़ो, जिसे निदा खान ने स्वीकार कर लिया तथा लखनऊ बिना बुर्के में पहुँच गयी. बता दें कि निदा खान के भाजपा में जाने की चर्चा जोरों पर है तथा निदा खान इस बात को बखूबी समझती हैं कि अगर उन्हें समाज के लिए काम करना है, कुरीतियों से महिलाओं को निजात दिलानी है तो बुर्का में नहीं सामने से चुनौतियों का सामना करना होगा.

निदा खान के बुर्का उतारने के बाद मजहबी उलेमा बेचैन नजर आये. नबीरे आला हजरत मौलाना तसलीम रजा खां ने कहा कि हर किसी को इख्तेयार है कि वह सोच के एतबार से चले, आगे बढ़े लेकिन इस बात का सभी को ख्याल रखना चाहिए कि शरीयत के खिलाफ नहीं जाएं. ऐसा करने वालों को आखेरत (मरने के बाद) में अल्लाह के सामने जवाब देना पड़ेगा। दूसरों के बहकावे में आकर शरीयत के खिलाफ जाने वाले इस बात का भी ख्याल रखें कि उन्हें इसका जवाब मिलेगा. अगर शरीयत के खिलाफ आगे भी कुछ कहा गया तो उसका पुरजोर तरीके से जवाब देंगे, खामोश नहीं बैठा जाएगा तथा निदा खान लगातार शरीयत के खिलाफ काम कर रही हैं.

Share This Post