लगातार जारी है मंदिर के पुजारियों का नरसंहार… अब बिजनौर में मिली एक और पुजारी की लाश

गौहत्या के बाद देश में हिन्दू साधू संतों, मंदिर के पुजारियों की ह्त्या का जो सिलसिला शुरू हुआ था वह अभी तक जारी है तथा सिलसिलेवार तरीके से लगातार हिन्दू संतों की हत्याएं की जा रही हैं. साधुओ की ह्त्या का सिलसिला उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से शुआ था जब दो संधुओं की क्रूरतम तरीके से ह्त्या कर दी गयी थी. इसके बाद औरैया में 3 साधुओं का, करनाल में 2 साधुओं का तथा उत्तर प्रदेश के ही पीलीभीत में मंदिर के पुजारी की क्रूरतम तरीके से हत्या कर दी गयी. अब एक बार फिर से हत्या हुई है मंदिर के पुजारी की तथा इस बार निशाना बना है उत्तर प्रदेश का बिजनौर. खबर के मुताबिक़, यूपी में बिजनौर के गांव मिठनपुर और चमरौला के बीच स्थित देव स्थल के पुजारी की हत्या कर दी गई.  धारदार हथियार से हमला करने के बाद उनके सिर पर भी किसी भारी वस्तु से वार किया गया.

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के चांदपुर थाना क्षेत्र के गांव चमरौला के बाहर जंगल में गांव का देव स्थल बना है. इस पर गांव सैंदवार निवासी 65 वर्षीय पुजारी मुन्नालाल करीब एक साल से रहते थे तथा मंदिर की देखभाल तथा पूजा पाठ आदि करते थे. ग्रामीणों ने बताया कि पुजारी का पिछले कई सालों से देव स्थल पर आना जाना था. देव स्थल पर रहने का कोई स्थान नहीं होने से वह वहां रुकते नहीं थे. एक साल पहले गांव के लोगों के सहयोग से देव स्थल पर रहने का स्थान बनने के बाद से पुजारी वहां रुकने लगे थे. गांव के शिव मंदिर पर रामायण का पाठ चल रहा था, सोमवार को पाठ का समापन हुआ था.  प्रसाद वितरण में दोने कम पड़ जाने पर देव स्थल पर लोग पुजारी के पास दोने लेने पहुंचे तो पुजारी का खून से लथपथ शव पड़ा मिला.

ग्रामीणों ने बताया कि बेहद ही क्रूर तरीके से पुजारी का क़त्ल किया गया था तथा पुजारी के खून से लथपथ शव को देख ग्रामीण हक्के बक्के रह गये तथा पुलिस को सूचना दी. सूचना पर पहुंचे सीओ राजकुमार सिंह और कोतवाली निरीक्षक दुर्गेश मिश्रा ने घटना की जानकारी ली. कोतवाली निरीक्षक ने बताया कि पुजारी के सिर पर भारी वस्तु से हमला किया गया है, सिर पर धारदार हथियार का भी निशान है तथा शव के पास ही चाकू पड़ा मिला है. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है तथा हत्या के कारणों की जांच की जा रही है.

Share This Post