Breaking News:

प्रिंसिपल था रईसुद्दीन जो दलित बच्चे को देखकर बोला कुछ ऐसा कि वहां जमा हो गए हिन्दू संगठन… दलितों ने लगाए जय श्रीराम के नारे

देश के तमाम राजनेता तथा बुद्धिजीवी अक्सर रट लगाये रहते हैं कि वर्तमान में हिन्दुस्तान में मुसलमानों में दहशत का माहौल है. पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी तक इस बात की रट लगाए हैं कि देश में अल्पसंख्यक मुसलमानों को टार्गेट किया जा रहा है जिसके कारण वह भयभीत हैं, डरा हुआ महसूस कर रहे हैं. लेकिन उत्तर प्रदेश के मेरठ से एक ऐसा सनसनीखेज मामला सामने आया है जिसे जानकर आप भी कहेंगे कि हामिद अंसारी के अनुसार मुस्लिम समुदाय डरा हुआ है जबकि हकीकत ये है कि ये समुदाय डरा हुआ नहीं है बल्कि डरा रहा है. 

खबर के मुताबिक़, उत्तर प्रदेश के मेरठ जिला के फलावदा कस्बे के मोहल्ला पंछाली पट्टी स्थित प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक(मुस्लिम) ने दलित बच्चों का स्कूल में एडमिशन करने को मना कर दिया. जानकारी मिलने पर हिन्दू संगठन पहुंचे तथा हस्तक्षेप किया. जानकारी के मुताबिक, यहां पर अनुसूचित जाति की महिला ने स्कूल के प्रधानाध्यापक(मुस्लिम) पर दुत्कारकर भगाने का आरोप लगाया. इसका वीडियो वायरल होने और हिंदु संगठनों के हंगामे के बाद आरोपित प्रधानाध्यापक बैकफुट पर आ गया. जानकारी के अनुसार, मंगलवार प्रातः मोहल्ला जगजीवन राम निवासी पीड़ित महिला सुनीता पत्नी संतरपाल ने बताया कि वह कस्बे के ही मोहल्ला पंछाली पट्टी स्थित सरकारी प्राथमिक विद्यालय में अपने दोनों बच्चों का एडमिशन कराने स्कूल के प्रधानाध्यापक रहीसुद्दीन के पास पहुंच कर अपने दोनों बच्चों का एडमिशन करने के लिए कहा. तो स्कूल के प्रधानाध्यापक रहीसुद्दीन ने महिला को बताया कि इस स्कूल में दलित बच्चों का एडमिशन नहीं हो सकता. महिला ने काफी विनती की लेकिन हामिद अंसारी के अनुसार डरा हुआ प्रधानाध्यापक रहीसुद्दीन ने महिला को ही डराकर भगा दिया.

महिला ने निराश होकर स्कूल के आस-पास गणमान्य लोगों तथा हिन्दू संगठनों से कहां कि स्कूल का मास्टर उसके दोनों बच्चों का एडमिशन करने से इसलिए मना कर दिया कि वह दलित है. यह बात सुनकर हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं ने स्कूल में पहुंचकर मजहबी उन्मादी प्रधानाध्यापक को दलित महिला के साथ इस तरह के व्यवहार को लेकर प्रधानाध्यापक को आड़े हाथों लेकर जमकर खरी खोटी सुनाई और उसके खिलाफ स्कूल में जमकर हंगामा किया. तब जाकर बड़ी मुश्किल से प्रधानाध्यापक ने बच्चों का एडमिशन करने के लिए आश्वासन दिया. हिन्दू संगठनों के इस सहयोग के बाद दलित समाज के लोगों ने जयश्रीराम के नारे लगाये.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW