Breaking News:

पुलिस की दबिश , छापेमारी को ले कर मुख्यमंत्री के निर्देश पर उत्तर प्रदेश शासन ने जारी किये नए नियम

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के आशियाना क्षेत्र में हुई एक घटना का संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश शासन के माध्यम से छापेमारी और अपराधियों की धरपकड़ के नए नियम जारी किये हैं .  लखनऊ के आशियाना थानाक्षेत्र की निवासिनी अमीषा सिंह के घर रविवार देर रात पुलिस द्वारा दबिश देने और उनके अनुसार उनके साथ हुई अभद्रता करने के मामले पर संज्ञान लेते हुए यह नए निर्देश जारी किये गए हैं . अमीषा सिंह के अनुसार पुलिस ने बिना वारंट दिखाए उनके गेट में घुसने की कोशिश की और जब उन्होंने गेट खोलने से इंकार कर दिया तो पुलिसकर्मियों ने दरवाजा तोड़ने की धमकी दी व् वे गेट पर चढ़ गए.. इसी मामले को मुख्यमंत्री ने स्वयं संज्ञान लिया और नए निर्देश जारी कर दिए . 

उत्तर प्रदेश शासन द्वारा जारी किये गए नए नियम के अनुसार अब उत्तर प्रदेश पुलिस को सिविल मामलों में देर रात दबिश नहीं देने का निर्देश जारी किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री कार्यालय के हवाले से आये निर्देश में कहा गया है कि जघन्य अपराध के अभियुक्त के अलावा किसी भी सामान्य अपराध के अभियुक्त या वारंट पर गिरफ्तारी के लिए रात में दबिश नहीं दी जाएगी। कुल मिला कर अब आगे से पुलिस जघन्य अपराध के अभियुक्त के अलावा अन्य सामान्य अपराध के अभियुक्त/वारंट तमील हेतु रात में कार्रवाई नहीं करेगी व्  सिविल मामलों में रात में दबिश नहीं दी जायेगी यदि हालत विषम न हो गए हों .

इस आदेश के बाद पुलिस मामलो के जानकारों द्वारा माना जाता है की पुलिस बल पर दबाव बढ़ेगा और उनके लिए कार्य में थोड़ी मुश्किलें बढ़ेंगी . बताया ये भी जा रहा है कि इस आदेश के बाद लंबित मामलो की संख्या बढ़ेगी और छोटे मामलो के अपराधियों के हौसले भी बढ़ेंगे .. सवाल ये भी अनुत्तरित है कि अपराध की जघन्यता की श्रेणी को तय कौन करेगा .. इसके साथ अब विपक्षी भी पुलिस पर आरोप लगाएगा कार्यवाही न करने आदि के .. कुल मिला कर पुलिस की जिम्मेदारियों को और मुश्किल किया गया है इस आदेश के बाद जिस पर पहले से ही तमक कानून और नियमो से बंधा पुलिस बल कितना खरा उतरता है ये भिवष्य निर्धारित करेगा .. 

Share This Post