चोरी से चला रहे थे कत्लखाने लेकिन पुलिस की नजर से बच नहीं सके…क्योंकि प्रदेश में अब है योगीराज

उत्तर प्रदेश सरकार अपराधियों, अराजक तत्वों के खिलाफ अभियान छेड़े हुए है लेकिन उसके बाद भी कुछ ऐसे तत्त्व मौजूद हैं जो कानून को धता बताते हुए अबैध कार्य कर रहे हैं. जहाँ योगी सरकार ने अवैध कत्लखानों पर रोक लगा रखी है उसके बाद भी पुलिस प्रशासन की नजरों से छिपकर अवैध कत्लखाने चल रहे हैं. 

ताजा मामला उत्तर प्रदेश के मुजफ्फ्र्नागे जिले के बुढाना क्षेत्र से जुड़ा हुआ है जहाँ पुलिस ने दो स्थानों पर अवैध कटान की सूचना पर छापा मारकर मांस व उपकरण समेत एक दर्जन चोटिल पशु बरामद किये. कहने को वहां भेंसों को काटने की बात कही गयी थी लेकिन इसके आड़ में गौ तस्करी की जा रही थी. बुढाना कस्बे के नई बस्ती में कटान की सूचना पर पुलिस ने एक मकान पर छापा मारा लेकिन पुलिस के पहुँचते ही मौके पर मौजूद गौ तस्कर छत के रास्ते कूदकर फरार हो गये.पुलिस ने मौके से भैंस व गाय को बरामद किया है तथा पशु काटने के उपकरण बरामद किये हैं.

इसके बाद अपने अभियान को तेज करते हुए पुलिस ने देर रात्रि कसबे के सफीपुर पट्टी में छापा मारा जहाँ मौके से कटान को लाई गई चोटिल गाय व उपकरण के साथ एक आरोपी दिलशाद को गिरफ्तार कर लिया गया तथा बाकी आरोपी फरा हो गयी. पुलिस पूंछताछ में गिरफ्तार गौ तस्कार दिलशाद ने फरार हुए गौ तस्करों के नाम बताये हैं. पुलिस के मुताबिक आशु, आसिफ, जुबैर जुनैद, फजाल व दीनू पुलिस टीम को देखते ही भाग गये. लेकिन पुलिस ने सभी आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया है तथा आरोपियों की तलाश की जा रही है.

अपने कस्बे में ही गौ क़त्लखाना चलने की सूचना पाते ही हिन्दू समुदाय एकत्रित हो गया तथा हंगामा शुरू कर दिया. पुलिस ने आक्रोशित हिन्दू समाज को समझाया तथा कहा कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा तथा उचित कार्यवाही की जायेगी. तब जाकर मामला शांत हुआ. पुलिस ने भरोसा दिलाया है कि एक भी कत्लखाना नहीं चलेगा, इसके लिए विशेष टीमें अभियान चला रही हैं एयर इसी कड़ी हैं आज 2 कत्लखानों पर कार्यवाही हुई है. निश्चित रूप से पुलिस की ये कार्यवाही सराहनीय है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW