बलात्कार पीड़िता ने जब नहीं टेके घुटने तो मुमताज आमादा हो गया उनके पूरे परिवार के नरसंहार पर… अफ़सोस अकेली पड़ गई वो न्याय के इस युद्ध में

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के चौरीचौरा क्षेत्र का एक गांव उस समय दहल गया था जब एक बलात्कार पीड़िता के भाई पर उसके साथ बलात्कार करने वालों के भाइयों ने जानलेवा हमला कर दिया तथा अधमरा करके रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया. जब बलात्कार पीड़ित युवती दरिंदों के आगे नहीं झुकी तो दरिंदों का परिवार पीड़िता के परिवार का ही नरसंहार करने पर आमादा हो गया. आपको बता दें की बलात्कार पीड़िता दलित समाज से है तथा इतना सब कुछ होने के बाद भी न तो कोई दलित हितैषी संगठन आगे आया और न वो लोग आये जो दलित-मुस्लिम एकता का नारा लगाते हैं.

खबर के मुताबिक़, गोरखपुर के चौरीचौरा क्षेत्र के एक गांव में 6 जून की रात हुई गैंगरेप की घटना में सुलह के लिए दबाव को लेकर गुरुवार की रात में पीड़िता के भाई को आरोपी पक्ष ने बेरहमी से पीटकर रैलवे ट्रैक पर फेंक दिया। उसकी माँ के तहरीर पर पुलिस ने मुमताज, जब्बार खान व दो अन्य के खिलाफ 308 व 323 के तहत केस दर्ज कर तलाश शुरू कर दी. गैंगरेप पीड़िता की माँ ने तहरीर दिया था कि गुरुवार की रात 9 बजे उसके बेटे को बेरहमी से पीटकर उसे चौरीचौरा रेलवे स्टेशन के पास रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया गया था. उसने गैंगरेप आरोपी के भाई मुमताज, जब्बार खान के अलावा उनके दो अन्य साथियों पर मारने पीटने व् अधमरा करके रेलवे ट्रैक पर अधमरा करके फेंकने का आरोप लगाया तथा पुलिस ने उक्त चारों आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज कर कार्रवाई की मांग की.

बता दें कि 6 जून को 13 वर्षीया किशोरी के साथ गैंगरेप के आरोप में इस्तेखार व इस्तेफ़ाक के खिलाफ केस दर्ज कर पुलिस ने गिरफ्तार किया था. दोनों आरोपी जेल में हैं. आरोप है कि उसी केस के समझौता के लिए दबाव बनाने के लिए गैंगरेप पीड़िता के भाई विकास को घर से बाइक सवार युवकों ने उसे ले जाकर बुरी तरह पीटा और अधमरा करके रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया था.

Share This Post