आतंक व अपराध को जड़ से उखाड़ देने को संकल्पित UP पुलिस को मिलेगी स्पेशल ट्रेनिंग… जिसके बाद वो बन जायेंगे कमांडो

अपराधियों व दहशत गर्दों के लिए काल बन रही यूपी पुलिस के जवानों को लेकर अब एक ऐसी कहबर आ रही है जिसे जानकर आप खुशी से झूम उठेंगे तथा उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को उत्तर प्रदेश पुलिस के जवानों के लिए लिए गए इस अहम् फैसले के लिए धन्यवाद करेंगे. जिस तरह से यूपी पुलिस अपराधियों से लोहा ले रही है, अपराधियों का खात्मा कर रही है उसे देखते देखते हुए यूपी पुलिस प्रशासन अपने सिपाहियों को और मजबूत बनाने के लिए नए-नए कदम उठा रहा है, जिसके अंतर्गत ये फैसला किया गया है कि उत्तर प्रदेश पुलिस अपने नए भर्ती सिपाहियों को ट्रेनिंग के लिए दूसरे राज्यों (state) और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के प्रशिक्षण केंद्रों में भेजेगी , जिसके बाद यूपी पुलिस के जवाव अब कमांडों वाली ट्रेनिंग भी प्राप्त करेंगे.

ज्ञात हो की 2015 में आयोजित की गई परीक्षाओं के माध्यम से 28,000 सिपाही भर्ती किए गए थे. 11 जुलाई को इनकी ज्वाइनिंग भी होनी थी लेकिन ट्रेनिंग न मिलने के कारण इसमें विलम्ब हो रहा है. इसी देरी को खत्म करने के लिए ये फैसला लिया गया है. आपको बता दें कि लगभग 8,000 सिपाहियों को तमिलनाडु, केरल, बिहार, असम, महाराष्ट्र, राजस्थान, ओडिशा, आंध्र प्रदेश और उत्तराखंड जैसे राज्यों में नियमित प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा. राज्य सरकार के आदेश के बाद यूपी पुलिस मुख्यालय ने नए भर्ती किए गए उन सिपाहियों की सूची जारी की है, जो प्रशिक्षण के लिए दूसरे राज्यों में संस्थानों में जा रहे हैं. इन सिपाहियों को सब-इंस्पेक्टरों और इंस्पेक्टर रैंक अधिकारी प्रशिक्षित करेंगे. 25 जुलाई से 27 जनवरी, 2019 तक ये प्रशिक्षित किए जाएंगे. इसके साथ ही बचे हुए 20,000 सिपाहियों को चुनर, उन्नाव, मेरठ और गोरखपुर में स्थित चार भर्ती प्रशिक्षण केंद्रों के अलावा 75 पुलिस लाइनों और 26 पीएसी बटालियनों में प्रशिक्षण दिया जाएगा.

राज्य सरकार ने पुलिस प्रशिक्षण संस्थानों में सीटों की सीमित संख्या के कारण यह फैसला लिया है. इन केंद्रों के ट्रेनर नए सिपाहियों को दो चरणों में प्रशिक्षित करेंगे. पहला चरण 25 जुलाई से 25 अक्टूबर तक का होगा. वहीं दूसरा चरण 26 अक्टूबर से 27 जनवरी तक अन्य राज्यों के प्रशिक्षण केंद्रों में चलेगा. ट्रेनिंग खत्म होते ही यूपी पुलिस में सिपाहियों की जो कमी हो रही है उसको पूरे किया जाएगा. राज्य सरकार तथा यूपी पुलिस प्रशासन का मानना है अब जब यूपी पुलिस के जवान अर्धसैनिक बालों के साथ ट्रेनिंग लेंगे तो उन्हें ड्यूटी निभाने मैं भी आसानी होगी तथा कठिन से कठिन परिस्थितियों में लड़ने का अनुभव भी आएगा.


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share