Breaking News:

आयरन लेडी निदा खान को हुआ तब सुरक्षित प्रदेश का एहसास,, जब यूपी पुलिस ने क़त्ल की धमकी दे रहे मौलवियों के खिलाफ दर्ज करना शुरू किया FIR

आयरन लेडी के नाम से मशहूर हुई बरेली की निदा खान को अब सहारा मिला है उत्तर प्रदेश पुलिस का. अब खैर नहीं होगी उन कट्टरपंथी मौलवियों की जिन्होंने निदा खान के खिलाफ फतवे जारी किये हैं, उन्हें मारने की, उनकी चोटी काटने की बात कही है. आपको बता दें कि हलाला, तीन तलाक और बहुविवाह के खिलाफ आवाज उठाने वाली निदा खान के खिलाफ फतवा जारी करने वाले मौलवियों और मुफ्तियों और धार्मिक संस्थानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी. इस मामले की गंभीरता को समझते हुए बरेली के एसपी सिटी अभिनंदन सिंह ने एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए हैं. निदा ने मांग की थी कि उनके खिलाफ फतवा जारी करने वाले मौलवियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए जाएं.

खबर के मुताबिक़, निदा खान ने एसपी ऑफिस पहुंचकर अपने खिलाफ फतवा जारी करने वाले दरगाह आला हजरत के मुफ़्ती और मौलवियों के खिलाफ तहरीर दी. निदा का कहना है कि फतवा जारी कर उसके मौलिक अधिकारों का हनन किया गया है. समाज से उसका बहिष्कार होने लगा है. निदा का कहना है कि उसके घर पर फतवा जारी होने से पहले रोजाना नियाज करने के लिए मौलवी आया करते थे और जब से फतवा जारी कर उसे इस्लाम से खारिज किया गया तब से उसके घर कोई भी मुफ़्ती या मौलवी नियाज के लिए नही आ रहे है. जिसके बाद एसपी सिटी अभिनंदन सिंह ने बारादरी पुलिस को दरगाह आला हजरत के दारुल इफ्ता से फतवा जारी करने वाले शहर काज़ी और शहर ईमाम समेत 4 अन्य फतवा सुनाने वाले मौलवियों के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं.

बता दें, विश्व प्रसिद्ध दरगाह आला हजरत के दारुल इफ्ता से निदा खान के खिलाफ जारी फतवे में निदा खान को इस्लाम से खारिज कर दिया गया है. यही नहीं निदा का हुक्का पानी बन्द कर साफ किया गया है कि उससे ताल्लुक रखने वाले लोगो का भी हुक्का पानी बंद होगा. फतवे के अनुसार निदा खान के बीमार पड़ने पर उसे अब कोई दवा भी नही दे सकेगा. यही नहीं निदा के मरने के दौरान नमाजे जनाज़ा और कब्रिस्तान में दफनाने पर रोक लगा दी गई है लेकिन इस के बाद निदा खान के समर्थन में कुछ कट्टरपंथियों को छोड़कर पूरा राष्ट्र खडा हो गया है.

Share This Post