Breaking News:

UP के आज़मगढ़ में उन्मादियों का कहर ..सब- इंस्पेक्टर का सर फोड़ा, सिपाहियों ने भाग कर बचाये प्राण


आखिर क्यों मांगा जा रहा है  जनसँख्या नियंत्रण कानून इसका अब जवाब श्री सुरेश चव्हाणके जी नही बल्कि समय दे रहा है ..अपराध,  उन्माद, आतंक जैसे शब्द तेजी से पसरते जा रहे भारत के शांतिमय समाज मे और करते जा रहे इस शस्य श्यामला भूमि को दूषित ..अपराध एक ही जैसे हैं लेकिन हर बार जगह बदल रही है ..सम्भल, अलीगढ़ के बाद अब आया है आज़मगढ़ का नम्बर जहा समाज की रक्षक पुलिस पर हुआ है जानलेवा हमला ..

ज्ञात हो कि आज़मगढ़ के महराजगंज थानाक्षेत्र में गांव है कोलमुद्दीनपुर पुर ..यह इलाका सघन बस्ती माना जाता है जहाँ कुछ उन्मादी और आपराधिक तत्व रहते हैं ..इसके आस पास से गुजरने वालों को अक्सर तमाम परेशानियों का सामना करते हैं ..कुछ दिन पहले इधर से ही रामजीत सोनकर नाम का व्यक्ति गुजरा तो उस से यहां के आपराधिक तत्वों का झगड़ा हो गया और उसकी परशुराम पुर बाज़ार से लौटते समय बुरी तरह से पिटाई कर दी गयी थी ..

रामजीत सोनकर के हमलावरों को खोजने के लिए ही पुलिस उस कोलमुद्दीनपुर गांव की उस संवेदनशील बस्ती में घुसी थी जहां उस पर भारी पथराव कश्मीरी अंदाज़ में किया गया जिसकी चपेट में दरोगा बृजेन्द्र नाथ सिंह जी आ गए और उन्हें अस्पताल ले जाना पड़ा है ..इसके अलावा अपराधियो को पकड़ने गयी फोर्स के तमाम सिपाहियों ने पत्थरबाज़ों और हमलावरों से छिप कर अपने प्राण बचाये .. घटना की सूचना मिलते ही इलाके में कई थानों की पुलिस को भेजा गया है और पूरा गांव पुलिस छावनी बन गया है  .

पुलिस पर हमलावरों की तलाश चल रही है जिसमे से काईयों को हिरासत में ले लिया गया है .. गांव में सन्नाटा छाया है जिसे केवल पुलिस के सायरन तोड़ रहे हैं ..


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share