मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद अब सत्ता के निशाने पर आया उसका साथी जलीश उर्फ फ़िरोज़.. योगीराज में हो रहा उसके काले कारनामों का हिसाब

मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठते ही योगी आदित्यनाथ ने अपराधियों से कहा था कि उत्तर प्रदेश को वो छोड़ दें अन्यथा उन्हें गम्भीर परिणाम भुगतने होंगे .  शायद इसको जलीश उर्फ फ़िरोज़ ने गम्भीरता से नही लिया होगा ..इसके चलते ही अब वो देख रहा है कानून का वो राज़ जो उसको चौंका देने के लिए काफी है और कई अन्य को एक साफ सन्देश देने के लिए भी .. ज्ञात हो कि कभी उत्तर प्रदेश के दुर्दांत माफियाओं में गिने जाने वाले व बागपत जेल में मौत के घाट उतार दिए गए अपराधी मुन्ना बजरंगी के खास रहे जलीश उर्फ फिरोज के करीब सवा दो करोड़ की सम्पत्ति पर गिरी है योगी शासन की गाज, अचानक हुई इस कड़ी कार्यवाही से उसके व उसके साथियों मचा हुआ है हड़कम्प..

कोतवाली क्षेत्र के डाकखाने चौराहे के पास मुन्ना बजरंगी के खास गुर्गे रहे जलीश उर्फ फिरोज पर प्रशासन ने शिकंजा कंसना शुरु कर दिया है।  सुलतानपुर में अवैध तरीके से अर्जित किये गये धन से बनाई सम्पत्ति पर प्रशासनिक गाज गिरनी शुरु हो गयी है। आज यहां मुन्ना बजरंगी के खास रहे जलीश उर्फ फिरोज का करीब सवा दो करोड़ की सम्पत्ति से बना व्यवसायिक काम्प्लेक्स और मकान सीज कर दिया गया। प्रशासन द्वारा करायी गयी इस कार्यवाही से हड़कम्प मचा हुआ है। बताते चलें कि नगर कोतवाली क्षेत्र के डाकखाने चौराहे के पास मुन्ना बजरंगी के खास गुर्गे रहे जलीश उर्फ फिरोज पर प्रशासन ने शिकंजा कंसना शुरु कर दिया है। दर्जन भर से ज्यादा मुकदमों में वांछित जलीश पिछले काफी दिनों से फरार है और हाल में ही अवंतिका फूड माल के संचालक आलोक आर्या गोलीकांड में भी पुलिस ने इसे आरोपी बनाया गया है। इसी कड़ी में इस पर शिकंजा कंसने के लिये पुलिस ने पहले तो इसके बनाये गये व्यवसायिक काम्प्लेक्स और मकान की जांच कराई , लेकिन जब कोई सही साक्ष्य जलीश के परिजनों द्वारा उपलब्ध न कराया गया तो उसे सीज करने के लिये जिलाधिकारी के सम्मुख प्रस्तुत किया गया। जिलाधिकारी की जांच में भी जलीश और इनके परिजन कोई सही साक्ष्य उपलब्ध करा सका।

जिस पर जिलाधिकारी ने इस अवैध रुप से अर्जित किये गये धन से बनाई गयी सम्पत्ति मानते हुये 14A कार्यवाही के तहत सीज करने का आदेश दे दिया। जिलाधिकारी के निर्देश पर आज सदर तहसीलदार और नगर कोतवाल दल बल के साथ जलीश के राहुल चौराहे स्थित मजीद काम्प्लेक्स पहुंचे और उसे सीज कर दिया। उसके बाद उनका काफिला डाक्खाने चौराहे के पास स्थित उसके घर पहुंच कर उसे भी सीज कर दिया गया। अधिकारियों की माने तो इस कामप्लेक्स और मकान की कीमत करीब सवा दो करोड़ रुपये है। फिलहाल अधिकारियों द्वारा कराई गयी इस कार्यवाही से अवैध तरीके से धन अर्जित करने वाले अपराधियों में हड़कम्प मचा हुआ है।

Share This Post

Leave a Reply