जानिए क्यों योगी आदित्यनाथ ने पूर्व सीएम अखिलेश के ड्रीम प्रोजेक्ट के दिए जांच के आदेश


लखनऊ : यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व सीएम अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट रहे गोमती रिवरफ्रंट के जांच के आदेश दिए हैं। इसके साथ ही आदित्यनाथ ने जांच की रिपोर्ट 45 दिन में मांगी है। बता दें कि 27 मार्च को योगी आदित्यनाथ ने गोमती रिवर फ्रंट विकास परियोजना का निरीक्षण किया था और उसकी प्रगति पर असंतोष जताया था।

योगी ने करीब 1500 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत वाली गोमती रिवरफ्रंट परियोजना का निरीक्षण करते हुए कहा था कि मई 2017 तक पूरी हो जाने वाली इस परियोजना का अभी तक 60 फीसदी से भी कम काम हो पाया है। इस पर अब तक 1427 करोड़ रुपये खर्च हो जाने के बावजूद विभाग द्वारा लगभग 1500 करोड़ रुपये अतिरिक्त उपलब्ध कराने की मांग की जा रही है।

उन्होंने अधिकारियों से पूछा था कि गोमती का पानी गंदा क्यों हैं? क्या सारे पैसे पत्थरों में लगा दिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये थे कि ये सुनिश्चित किया जाए कि गोमती नदी में एक भी नाला न गिरे, मई तक गोमती का पानी साफ हो जाए। गोमती नदी के दोनों तटों का सौंदर्यीकरण, किनारे में जॉगिंग ट्रैक, किड्स प्ले एरिया, स्टेडियम, फव्वारा और लाइटिंग की व्यवस्था हैं।

लखनऊ में कुड़िया घाट से लेकर लामार्टिनियर स्कूल तक 12.1 किलोमीटर का रिवरफ्रंट बना है। इसपर तीन हज़ार करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। लन्दन के थेम्स नदी की तर्ज पर इसे बनाया जा रहा है। मार्च 2017 तक इसे पूरा होना था, लेकिन अभी भी इस पर काम चल रहा है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...