योगीराज में ढह गया वो उर्दू गेट जिसको अवैध रूप से बनवाया था आजम खान ने

गलत को निसंकोच गलत कहने की परम्परा उत्तर प्रदेश में शुरू होना माना जा सकता है जब अपने समय के सबसे कद्दावर रहे आजम खान द्वारा उर्दू गेट के नाम से बनवाये गये एक अवैध निर्नाम को योगीराज में ढहा दिया गया और आगे भी किसी भी प्रकार की अवैध इमरात या निर्माण पर कार्यवाही का संकल्प दोहराया गया . इस मामले में भले ही बाद में राजनीति शुरू हो लेकिन आम जनता के चेहरे पर इसके चलते मुस्कान ही दिख रही है .

समाजवादी पार्टी के यूपी की सत्ता में काबिज होने के दौरान जौहर विश्वविद्यालय का उर्दू गेट बना था, जिसे बनवाने में सरकार ने 40 लाख रुपए खर्च किये थे। बता दें कि इस गेट की लम्बाई मात्र 8 फीट थी। जिसकी वजह से इस रोड पर भारी वाहनों की आवाजाही में बंद हो गई थी। उर्दू गेट रामपुर जिले को उत्तराखंड़ से जोड़ने वाली रोड पर भारी वाहनों के लिए रुकावट पैदा करता था। इसकी शिकायत के बाद योगी सरकार ने जिला मजिस्ट्रेट को इसके निर्माण की जांच के आदेश दिए थे।

रामपुर के जिलाधिकारी ने जब इस पूरे मामले की जांच की तो पाया कि वो पीडब्ल्यूडी की अतिम्हत्व्पूर्व सडक थी जो उत्तर प्रदेश के जिला रामपुर को उत्तराखंड से जोड़ती है। इसी रोड के बीच में जौहर यूनिवर्सिटी पड़ती है। इस रोड पर वाहनों का बहुत दबाव रहता है। रोड के बीच में गेट बनाकर रोड को डायवर्ट कर दिया गया था। इसका नतीजा यह हुआ कि रोड बंद हो गई और लोगों को घूमकर जाना पड़ता था। जो रूट डायवर्ट किया गया वह आबादी के बीच से जाता था, जिससे उस इलाके में हमेशा जाम लगा रहता था। जिला प्रशासन ने बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स लगाकर समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता व पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान की जौहर विश्वविद्यालय को जाने वाली रोड पर बने उर्दू गेट को तोड़ दिया। ये गेट अखिलेश सरकार में आज़म खान ने बनवाया था।

Share This Post