समाज विरोधी फतवा देने वालों को मुख्यमंत्री योगी की सीधी चेतावनी.

आये दिन फतवों से समाज को विचलित करने वालों और खुद के नियमो को देश के नियमो से बड़ा समझने वालों को आख़िरकार योगी आदित्यनाथ जी ने साफ़ शब्दों में खुली चेतावनी दे डाली है . ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश की ही सीमा में दारूल उलूम देवबंद है जहाँ से अक्सर ऐसे फतवे निकल कर आते रहते हैं जो कभी समाज में वैमनस्यता तो कभी लिंग भेद आदि पैदा करते रहते हैं . अब उन्ही फतवा देने वालों को इशारों में योगी ने समझाया है जिसके बाद ये माना जा रहा है कि उसको वो एक मुख्यमंत्री का आदेश मान कर जरूर पालन करेगे और न करने वालों के खिलाफ कानून अपना काम करेगा .

विदित हो कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने साफ़ साफ़ शब्दों में कहा कि भारत किसी फतवे से संचालित नहीं होगा जिसे फतवे के आधार पर संचालित करना चाहते हैं। इस देश को बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने, महापुरुषों ने एक संविधान दिया है, उस संविधान से देश को संचालित करने की आवश्यकता है। हम अपनी सुरक्षा चाहते तो भारत की सुरक्षा की चिंता करनी चाहिए। अगर हम स्वयं की समृद्धि चाहते हैं तो भारत की समृद्धि की चिंता करनी चाहिए।

अपने बयान में योगी आदित्यनाथ जी ने आगे कहा कि उन्हें विश्वास है कि भारत की समस्त समस्याओं का समाधान भारत के संविधान से होगा। संविधान के दायरे में रह कर जन भावनाओं का सम्मान कर सकते हैं, देश का उत्थान भी कर सकते हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर में युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की 49वीं पुण्यतिथि एवं ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की चतुर्थ पुण्यतिथि समारोह में महंत दिग्विजयनाथ की श्रद्धांजलि सभा को संबोधित कर रहे थे।

Share This Post