Breaking News:

वैलेंटाइन डे पर गुजरात मे सरकारी रूप से लागू हुआ वो आदेश जिसकी मांग बिंदास बोल से करते रहे हैं सुरेश चव्हाणके जी. मनाया जाएगा “मातृ – पितृ पूजन दिवस”


ये वो मुहिम है जिसको पिछले लंबे समय से सुरेश चव्हाणके जी ने छेड़ रखी है.. अश्लीलता को बढ़ावा देने वाले पाश्चात्य कल्चर को जिस प्रकार से वामपंथी वर्ग ने दुष्परचरीत किया था उसके कुप्रभावों के बारे में पिछले कई वर्षों से बिंदास बोल के माध्यम से सुरेश चव्हाणके जी आम जन को जागरूक कर रहे थे.. शुरुआत में वामपंथी वर्ग व उसके बाद मज़हबी कट्टरपंथियों की तरफ से इसका व्यापक विरोध किया गया लेकिन बाद में इसकी स्वीकृति राष्ट्रवादी समाज मे तेजी से बढ़ती गई और आज के समय इसको शाशकीय रूप से लागू कर दिया गया है गुजरात में..

ध्यान देने योग्य है कि एक स्वागतयोग्य फैसले में गुजरात सरकार ने पाश्चात्य वैलेंटाइन डे के बदले स्कूलों में माता पिता के सम्मान के संस्कार मातृ पितृ पूजन दिवस का आयोजन करने का आदेश दिया है..गुजरात के सूरत में जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा एक सर्कुलर जारी किया गया है, जिसमें लिखा है कि ‘स्कूली बच्चों में भारतीय संस्कृति व मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए 14 फरवरी को मातृ-पितृ पूजन दिवास का आयोजन किया जाए।’ ये सर्कुलर सभी सरकारी स्कूलों के लिए जारी किया गया है। इसमें ये भी बताया गया है कि पूजन दिवस को किस तरह मनाया जाए।

सर्कुलर में सूरत के जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा है कि स्कूली छात्रों को प्रेरित करने और उनके बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए इसी तरह के आयोजन किए जा रहे हैं। स्कूलों को अपने वहां कार्यक्रम आयोजित करके तस्वीरों के साथ पूरी डिटेल को जिला शिक्षा कार्यालय में भेजना होगा। सर्कुलर के मुताबिक, मातृ-पितृ पूजन दिवस मनाने के लिए दिशा निर्देश भी दिए गए हैं। इसके अनुसार स्कूलों में पांच से दस दंपत्तियों को बुलाया जाएगा और उनके बच्चे फूल, टीका और मिठाई के साथ प्रार्थना करते हुए उनकी पूजा करेंगे।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share