Breaking News:

एक ऐसा प्रदेश जहाँ वाहनों पर अपनी जाति लिखी तो माने जाओगे जातिवादी और लगेगा भारी जुर्माना


कुछ समय पहले उत्तर प्रदेश के जिला गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी वैभव कृष्ण ने अपने ट्विटर पर एक फोटो शेयर की थी जिसमे उन्होंने एक कार जिसके पीछे गुर्जर लिखा था उसका चालान किया था. उस समय नॉएडा के एसएसपी के इस कदम को सोशल मीडिया और जमीनी स्तर पर बहुत समर्थन मिला था लेकिन अब एक प्रदेश की सरकार ने उस से भी आगे बढ़ वाहनों पर अपनी जाति या धर्म लिख कर जातिवाद फैलाने वालों को सबक सिखाने का मन बना लिया है..

ये कार्य होगा कई सराहनीय निर्णय ले चुकी राजस्थान की गहलोत सरकार में.. टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को ट्रैफिक एसपी के जारी किए गए एक आदेश के अनुसार किसी भी गाड़ी में जाट, ब्राह्मण, राजपूत, हिंदू, मुस्लिम, वकील, डॉक्टर आदि लिखकर चलने वालों का चालान काटा जाएगा। सिविल राइट्स सोसायटी ने 9 अगस्त को एक पत्र लिखकर अधिकारियों से कहा था कि वाहनों पर जाति, पदनाम और गांव के नाम लिखने का चलन बढ़ रहा है।

समाज के साथ साथ अब सरकार भी ऐसा मान रही है कि इस प्रकार के चलन समाज में सांप्रदायिकता और जातिवाद को जन्म दे रहे हैं .. इस पत्र को ट्रैफिक विभाग ने संज्ञानता में लिया और उसके बाद यह आदेश जारी किया। पत्र में यह भी कहा गया कि कई लोग नंबर प्लेटों में नंबर की जगह नाम और नारे भी लिखते हैं। एक वरिष्ठ ट्रैफिक पुलिस अधिकारी ने बताया कि नंबर प्लेटों पर नंबर की जगह कुछ और लिखना अवैध है और इसके लिए 5,000 रुपऐ तक का जुर्माना हो सकता है।

हथियार सप्लायर कादिर व् समीर को जमीन सूंघा दी मुज़फ्फरनगर पुलिस ने| हथियारों का जखीरा देख पुलिस हैरान

अब तक गाड़ी की बॉडी और विंड स्क्रीन पर नाम और पदनाम लिखने पर कोई जुर्माना नहीं था। कुल मिला कर समाज में सहर्ष स्वीकार हो रहे अब राजस्थान यातायात विभाग अब उन मोटर चालकों पर कार्रवाई करेगा जो अपने वाहनों पर जाति और धर्म के स्टिकर लगाकर गाड़ी चलाते हैं। यातायात विभाग किसी भी गाडी पर जाति, धर्म, पेशा और राजनीतिक दलों से संबद्ध स्टिकर लगाने वालों से जुर्माना वसूलेगा।   मोटर वाहन अधिनियम 1988 की धारा 177 के अनुसार, यदि अपराध के लिए कोई जुर्माना नहीं है, तो लगाया जाने वाला अधिकतम जुर्माना पहली बार में 100 रुपए है और बाद में यह 300 रुपए तक वसूला जा सकता है।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...