प्रभु हनुमान की मूर्ति मन्दिर में घुस कर तोड़ी, फिर वहीं नमाज़ पढ़ी और कैमरे पर बोला – “ये हुक्म था अल्लाह का”

अचानक ही तमाम तथाकथित सेकुलरिज़्म की दीवारों को तोड़ डाला उसने और प्रभु हनुमान जी की उस मूर्ति को मन्दिर में घुस पर तोड़ डाला जिस को पावन और पवित्र मान कर हजारों लोग उसी क्षेत्र के आया करते थे पूजा अर्चना आदि के लिये .. चूंकि मामला हिन्दुओ से और उनकी आस्था से जुड़ाथा इसीलिए खामोश रहे स्वघोषित बुद्धिजीवी और धर्मनिरपेक्षता के नकली ठेकेदार..वहां की जनता ने खुद से प्रयास कर के उसको पकड़ा और संविधान का पूरा पालन करते हुए बिना राष्ट्र को नुकसान पहुचायें उस उन्मादी को हवाले कर दिया पुलिस के..

यद्द्पि एक ही वर्ग के खिलाफ आक्रोशित होते मीडिया के एक विशेष समूह के कैमरे से मामले में भी निभा रहे थे अपनी स्वरचित धर्मनिपेक्षता के सिद्धांत लेकिन आम जनता ने खुद के ही कैमरों को जब निकाला और उस उन्मादी से सवाल किया कि ऐसा उसने क्यों किया तो वो खुल कर साफ साफ बोला कि ऐसा करने का हुक्म उसको अल्लाह ने दिया था.. इस जवाब को सुन कर वहां मौजूद हर धार्मिक व्यक्ति चौंक पड़ा क्योंकि अव तक उन्हें पता भी नही था कि उनके श्रीरामजन्मभूमि पर, काशी विश्वनाथ ओर आतंकी हमलों की चेतावनी जब तक क्यों जारी होती है..हिन्दू तो ये भी नही जानता था कि उनके आराध्य अक्षरधाम मंदिर व जम्मू के रघुनाथ मन्दिर पर हमले क्यों हुए थे और इतिहास में वो सिर्फ इतना जानता था कि उनके परम् आराध्य प्रभु सोमनाथ का मंदिर मोहम्मद ग़ज़नवी ने सिर्फ धन लूटने के लिए तोड़ा था..

उस भीड़ ने कुछ ने तो शायद सच को जान और समझ भी लिया था.. ये मामला है उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ का जहाँ एक मुस्लिम उन्मादी ने मंदिर में रखी मूर्ती खंडित कर दी और बाहर निकलकर नमाज अदा करने लगा, फिर उठकर धार्मिक नारे भी लगाए, जिसके बाद लोगों ने उसे पकड़कर जमकर पिटायी की और पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और मंदिर में नई प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा की तैयारी शुरू कर दी। लोगों ने पुलिस से मांग की है कि आरोपी युवक के के साथ दो और लोग भी थे, जिन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाय।

बताया गया है कि मंगलवार की सुबह प्रतापगढ़ के पट्टी कोतवाली अन्तर्गत उडईयाडीह बाजार स्थित हनुमान मंदिर में एक समुदाय विशेष के युवक ने ताला तोड़कर उसमें रखी बजरंगबली की मूर्ति को खंडित करके बाहर फेक दिया। बाहर निकलकर उसने नमाज अदा की और लोगों के मुताबिक धार्मिक नारे लगाने लगा। स्थानीय लोगों का कहना था कि आरोपी के साथ दो लोग और थे, जिनकी गिरफ्तारी के लिये पुलिस से मांग की गयी है। पुलिस ने युवक पर मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया। एसपी एस आनंद ने मामले को संज्ञान में लेते हुए आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिये हैं।

 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW