नाथूराम गोडसे की मूर्ति लगते ही वहां दिखने लगी फ़ोर्स ही फ़ोर्स .. उखाड़ कर फेंक दी गयी मूर्ति और फ़ैल गया तनाव

नाथूराम गोडसे के लिए एक बहुत बड़ी दीवानगी का स्थल बना है धर्मनगरी चित्रकूट जहा पर विगत मंगलवार को जब पूरे जिले में गांधी की जयंती मनाई जा रही थी उसी समय थानाक्षेत्र के सगवारा गांव के पास नाथूराम गोडसे को प्रखर हिंदूवादी चिंतक व महान देशभक्त बताकर कुछ युवकों ने उनकी बाकयदा मूर्ति स्थापित कर दी। इतना ही नहीं , उस मूर्ति के लिए बाकायदा चबूतरा भी बना दिया गया था और वहां पर भारत माता की जय और नाथूराम गोडसे अमर रहे के नारे भी लगे . इसके साथ ही वहां पर इस मूर्ति पर माल्यार्पण कर देशभक्ति के गीत गाने लगे।

जैसे ही इस मामले की जानकारी स्थानीय प्रशासन को हुई वैसे ही राजापुर के उपजिलाधिकारी मय फ़ोर्स मौके पर पहुंचे और नाथूराम गोडसे की मूर्ति लगाने को अपराध मान कर वहां से छह युवकों को हिरासत में ले लिया .. इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश की पुलिस ने उस मूूर्ति को हटाकर उसे नष्ट करा दिया। इतनी भारी संख्या में पुलिस को देख कर थोड़ी देर तक गांव में आपाधापी मच गयी और लोग सकपका कर मौके की तरफ भागने लगे .

राष्ट्रीय सनातन दल के संस्थापक बृजेंद्र पांडेय, आयोजक राघवेंद्र सिंह, जिलाध्यक्ष संदीप सिंह व प्रियंका पांडेय के नाम का बैनर गांव में लगा था। जिसमें नाथूराम गोडसे को प्रखर हिंदूवादी चिंतक व महान देशभक्त का उल्लेख कर तस्वीर लगी थी। इसी बैनर में देशभक्त सुभाष चंद्र बोस व रानी लक्ष्मीबाई के भी चित्र लगे थे। मंगलवार की दोपहर को पूर्व योजनानुसार एक दर्जन भगवा वस्त्र धारी युवक अचानक चबूतरे के पास पहुंचे और पहले से ही मंगाकर रखी गई नाथूराम गोडसे की मूर्ति लगवा दी। इसके बाद देशभक्ति गीतों के बीच मूूर्ति पर माल्यार्पण शुरू किया इसकी जानकारी जिला प्रशासन को हुई तो राजापुर एसडीएम सुभाष यादव, सीओ शिवबचन सिंह व थानाध्यक्ष वीरेंद्र त्रिपाठी भारी पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे।

 

Share This Post

Leave a Reply