Breaking News:

जहां सब इंस्पेक्टर आत्महत्या करता है और उसकी विधवा भटकती है न्याय के लिए, उस सहारनपुर पुलिस से योगी आदित्यनाथ आशा कर रहे इंसाफ की

सहारनपुर में जहरीली शराब से हुई मौतों का सिलसिला अभी थमा नहीं है, वहां पर विधवाओं के करुण क्रंदन का दौर भी अभी थमा नहीं है.. लेकिन उन चीखों और आंसुओं में सिर्फ उन पीड़ितों के नाम नहीं हैं जो शराब के जहर का शिकार हो गए हैं, इन आंसुओं में एक आंसू उस विधवा के भी हैं जिसका पति पुलिस की वर्दी में होने के बाद भी अपने ही सिस्टम के आगे थक कर हार गया और मौत को गले लगा लिया था ..ये वो अलार्म था जो बहुत पहले ही बज कर चेतावनी दे रहा था कि सहारनपुर मे सब ठीक नही चल रहा है.. लेकिन वो मौत एक पुलिस वाले की थी जो शायद शासन के लिए सामान्य बात होती है.. और उसके चलते ही आगे हुआ और भी अनर्थ..

विदित हो कि सहारनपुर की जनता भले ही वहां की पुलिस व्यवस्था में पूरी तरह से विश्वास खो चुकी हो पर अभी भी शायद प्रदेश सरकार को उस पर पूरा विश्वास है .. मात्र जिला स्तर से कुछ पुलिसकर्मियों पर कार्यवाही हो जाती है और ये दिखाने का प्रयास शुरू हो जाता है कि सब कुछ सामान्य हो रहा है .. एक आम जनता के लिए भी ये समझने और जानने के लिए बहुत होता है कि जिस जिले में कानून व समाज के रक्षक वर्दी वाले ही आत्महत्या तक कर रहे हों वहां पर एक सामान्य नागरिक की क्या दुर्दशा होती होगी.. अभी हाल में ही एक सब इंस्पेक्टर ने अपने ही सिस्टम से तंग आ कर आत्महत्या कर के लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींचना चाहा और ये बताना चाहा था कि सहारनपुर में सब सही नही चल रहा लेकिन उसकी विधवा की चीखें सहारनपुर में ही दम तोड़ गयी थी और लखनऊ खामोश रहा था ..

यह भी ध्यान रखने योग्य है कि सहारनपुर न सिर्फ SSP बल्कि DIG तक की पोस्टिंग का स्थल है, इस हिसाब से वहां पर कानून व्यवस्था का स्तर उच्चतम होना चाहिए था पर यदि मौत को गले लगाने वाले सब इंस्पेक्टर को अपने जीवन काल मे कहीं न्याय न मिलने की नाउम्मीदी दिखाई दी रही होगी तो आम जनमानस को न्याय कहाँ से मिलता होगा..सवाल ये भी है कि आखिर इस पुलिस के भरोसे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कैसे आश्वस्त हैं कि वो सहारनपुर शराब कांड में मृत लोगों को न्याय दिला पाएगी जबकि खुद पुलिस विभाग के ही एक सब इंस्पेक्टर की विधवा न्याय के लिए भटक रही है ..यकीनन ये आने वाले समय मे नरेंद्र मोदी की फिर ताजपोशी चाह रहे लोगों के लिए कम से कम सहारनपुर जिले से सुखद परिणाम नहीं देने वाला है ..

Share This Post