“शिक्षा में हिन्दू मुसलमान नहीं देखते, साबिर अली ट्यूशन के लिए अच्छा टीचर है” … फिर हुआ 1 नहीं बल्कि 2 बलात्कार

अरे! आप लोग कैसी बात करते हो, मुझे अपनी बच्ची को पढ़ाना है तथा साबिर अली एक बहुत अच्छा टीचर है, इसलिए मैंने उसे अपनी बच्ची को पढ़ाने के लिए होम ट्यूटर के रूप में रखा है. और रही बात आपकी हिन्दू मुस्लिम की कि साबिर अली मुस्लिम है तो मैं आपको बता दूं कि टीचर में हिन्दू मुसलमान नहीं देखते. शिक्षक शिक्षक होता है, वह हिन्दू या मुसलमान नहीं होता. फिर शिक्षक साबिर अली उसकी बच्ची को ट्यूशन पढ़ाने के लिए उसके घर आने लगा. फिर एक दिन वो हुआ जिसकी आशंका उस महिला को नहीं थी. साबिर अली ने ट्यूशन पढने वाली बच्ची का भी बलात्कार तथा उसकी माँ का भी बलात्कार किया.

मामला पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के गोपालनगर थानांतर्गत बैरमपुर गाँव का है. जानकारी के मुताबिक, बैरमपुर निवासी सबीर गांव के ही एक स्कूल में बढ़ाता था. इसके अलावा घर-घर जाकर ट्यूशन भी पढ़ता था. उसी गांव में रहने वाले एक परिवार को बेटी के लिए ट्यूशन की जरूरत थी.  उन लोगों ने सबीर से ट्यूशन पढ़ाने की गुजारिश की तो वह तैयार हो गया और घर जाकर छात्रा को ट्यूशन पढ़ाने लगा. आरोप है कि एक दिन सबीर ट्यूशन पढ़ाने पहुंचा तो वहां घर में महिला को अकेली पाकर उसके साथ दुष्कर्म किया तथा उसका विडियो बना लिया व इसकी शिकायत किसी से करने पर उन्हें बदनाम करने और जान से मारने की धमकी देकर चला गया. बदनामी और लोक लाज के भय से महिला ने इस बात का जिक्र किसी से नहीं किया. इसके बाद सबीर अक्सर महिला के साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाने लगा.

फिर एक दिन सबीर ने वो किया जिसे जान आप आक्रोश से भर उठेंगे. मौक़ा पाकर सबीर अली ने एक दिन मासूम छात्रा के साथ भी बलात्कार कर डाला और मोबाइल फोन पर उसका भी दुष्कर्म का वीडियो बना लिया. दुष्कर्म की बात किसी को बताने पर इंटरनेट पर वीडियो अपलोड करने की धमकी देकर मुंह बंद करा दिया. इलाके में प्रभावी होने के कारण पीड़ित परिवार उसकी ज्यादती सह गए. इससे उसका मनोबल और बढ़ गया और वह दिनों-दिन मां-बेटी से शारीरिक संबंध बनाने के साथ ही शारीरिक-मानसिक अत्याचार भी करने लगा. उसकी ज्यादतियों से तंग आकर महिला के पति ने गांव से कुछ रसुखदारों से अपनी पीड़ा बताई. इस मुद्दे को लेकर गांव में सालिसी सभा (पंचायत) बुलाई गई, जहां पैसे लेकर मामले को रफा-दफा करने का फैसला लिया गया।.लेकिन पीड़ित मां-बेटी को सालिसी सभा द्वारा लिया गया निर्णय मंजूर नहीं हुआ और दोनों ने गोपालनगर थाने पहुंच कर आरोपित शिक्षक सबीर के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई. कार्रवाई करते हुए पुलिस ने उसी रात आरोपित को गिरफ्तार कर लिया.

Share This Post